Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Tuesday / November 30.
Homeन्यूजभाषा को लेकर मिजोरम के मुख्यमंत्री ने अमित शाह को लिखी चिट्ठी, जानिए क्या है पूरा मामला ?

भाषा को लेकर मिजोरम के मुख्यमंत्री ने अमित शाह को लिखी चिट्ठी, जानिए क्या है पूरा मामला ?

Letter written by the Chief Minister of Mizoram to Amit Shah regarding language, know what is the whole matter?
Share Now

Mizoram Chief Secretary: हिंदी भले ही हमारी मातृभाषा हो लेकिन राज्यों की अलग – अलग भाषाएं भी हमारी जिंदगियों में काफी अहमियत रखती हैं. अब भाषा को लेकर ही मिजोरम में नया विवाद सामने आ रहा है.

दरअसल मिजोरम के मुख्यमंत्री जोरमथंगा ने गृह मंत्री अमित शाह को लेकर एक पत्र लिखा है. मिजोरम के मुख्यमंत्री ने केंद्रीय गृह मंत्री से राज्य के मुख्य सचिव (Mizoram Chief Secretary) को पद से हटाने के मांग की है.  राज्य में मुख्य सचिव की भाषा को लेकर परेशानी खड़ी हो गई है. इसलिए भाषा की परेशानी को हवाला देते हुए मुख्यमंत्री ने आदेश में संशोधन और मुख्य सचिव को बदलने की मांग की है.

इस मामले पर सीएम जोरमथंगा का तर्क है कि राज्य में जिस भी अधिकारी को मिजो भाषा का ज्ञान नहीं होगा उसका प्रभाव भी उतना नहीं पड़ेगा.  इसी परेशानी के चलते राज्य में मुख्य सचिव की संख्या भी दो हो गई है. जिससे राज्य में मुख्य सचिव की भूमिका स्पष्ट नहीं हो पा रही है.

इसे भी पढ़े: पूर्व CM देवेन्द्र फडणवीस ने अंडरवर्ल्ड से बताए नवाब मलिक के संबंध, अब मलिक फोड़ेंगे ‘हाइड्रोजन बम’

मुख्यमंत्री जोरामथंगा ने अमित को पत्र लिखते हुए कहा कि ”मेरा कोई भी कैबिनेट मंत्री हिंदी को नहीं समझता है, इसलिए हिंदी का ज्ञान रखने वाला कोई भी अधिकारी यहां असरदार नहीं साबित होगा. उन्होंने कहा कि ज्यादातर मिजो लोग भी हिंदी नहीं जानते, और कुछ तो अंग्रेजी भी नहीं समझ पाते हैं. ऐसे राज्य में बगैर मिजो भाषा की जानकारी वाला मुख्य सचिव कभी भी एक सही राज्य का सचिव नहीं बन सकता है”.

मुख्यमंत्री ने लिखा कि इसलिए जब से मिजोरम राज्य बना है तब से भारत सरकार ने कोई भी ऐसा सचिव नहीं चुना है जिसे मिजो भाषा नहीं आती हो. उन्होंने लिखा कि राज्य में चाहे एनडीए की सरकार हो या फिर यूपीए की हमेशा मिजोरम में ऐसी ही व्यवस्था चली आ रही है. साथ ही उन्होंने अमित शाह को पत्र के जरिए ये याद दिलाने की कोशिश भी की है कि हमेशा से ही एनडीए के भरोसेमंद सदस्य रहे हैं.

आपको बता दें कि केंद्र की बीजेपी सरकार ने 2 नवंबर को एजीएमयूटी कैडर की 1988 बैच की आईएसएस अधिकारी रेनू शर्मा को कार्यभार सौंपा था. लेकिन राज्य के मुख्यमंत्री किसी मिजो भाषा समझने और जानने वाले अधिकारी को इस पद पर चाहते हैं.

No comments

leave a comment