Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Tuesday / August 9.
Homeन्यूजदेश में पहली बार 1 हजार पुरुषों पर 1020 महिलाएं, जानें किस राज्य में कितना हुआ सुधार

देश में पहली बार 1 हजार पुरुषों पर 1020 महिलाएं, जानें किस राज्य में कितना हुआ सुधार

National Family Health Surve
Share Now

लिंगानुपात(Sex Ratio) में सुधार को लेकर सरकारें शुरुआती दौर से ही सजग रही हैं, जिसका सुखद परिणाम अब देखने को मिल रहा है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना से लेकर लिंगानुपात सुधार के लिए चलाई जाने वाली कई योजनाओं की बदौलत आज देश में प्रति हजार पुरुषों पर महिलाओं की संख्या पहली बार 1020 पहुंच गई है. मतलब प्रति हजार पुरुषों पर 20 महिलाएं ज्यादा हैं.

नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे-5 ने जारी किए आंकड़े

ये जानकारी नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे-5(National Family Health Survey 5 State Wise Details) के दूसरे चरण के जारी आंकड़ों से सामने आई है. जिसने दूसरे चरण में 14 राज्यों में लिंगानुपात के आंकड़े जारी किए हैं. इसके मुताबिक तमिलनाडु में सबसे ज्यादा एक हजार पुरुषों पर 1088 महिलाएं हैं. जबकि हरियाणा में लिंगानुपात 926 पहुंच गया है.

INDIA And 14 States/UTS  PHASE2

राज्य लिंगानुपात (2020-21) शहरी ग्रामीण 2015-16
अरुणाचल प्रदेश 997 989 998 958
छत्तीसगढ़ 1015 1016 1014 1019
हरियाणा 926 911 933 876
झारखंड 989 1070 1050 1002
मध्य प्रदेश 970 953 976 948
ओडिशा 1063 1010 1074 1036
पंजाब 938 918 950 905
राजस्थान 1009 968 1022 973
तमिलनाडु 1088 1062 1113 1033
उत्तर प्रदेश 1017 961 1036 995
उत्तराखंड 1016 943 1052 1015
चंडीगढ़ 917 918 868 934
दिल्ली 913 914 859 854
पुडुच्चेरी 1112 1086 1172 1068

हरियाणा में जबरदस्त सुधार

हालांकि हरियाणा में जबरदस्त सुधार देखने को मिला है. 2015-16 के आंकड़े बताते हैं कि उस वक्त वहां प्रति हजार पुरुषों पर महिलाओं की संख्या 876 थी जो अब बढ़कर 926 पहुंच गई है. बता दें कि बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना की शुरुआत भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हरियाणा से ही की थी. हरियाणा में लिंगानुपात में सुधार की सख्त जरूरत थी.    

इससे पहले जारी किए थे पहले चरण के आंकड़े 

राज्यों के अलावा केन्द्रशासित प्रदेशों पर नजर डालें तो दूसरे चरण में जिन केन्द्रशासित प्रदेशों को नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे(National Family Health Survey 5 State Wise Details) ने शामिल किया है. उसमें दिल्ली की स्थिति सबसे खराब है, जबकि पुडुचेरी में प्रति हजार पुरुषों पर महिलाओं की संख्या 1112 हैं, जो एक रिकॉर्ड स्थिति है. दिल्ली में प्रति हजार पुरुषों पर महिलाओं की संख्या 913 तो वहीं चंडीगढ़ में ये संख्या 917. इन सबमें खास बात ये है कि ग्रामीण क्षेत्रों में लिंगानुपात में जबरदस्त सुधार देखने को मिला है. वहीं अन्य राज्यों की बात करें तो इससे पहले दिसंबर 2020 में नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे-5 ने पहले चरण के आंकड़े जारी किए थे.

National Family Health Surve

Image Courtesy: Google.com

INDIA And 22 States/UTS  PHASE1

नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे-5(National Family Health Survey 5 State Wise Details) के पहले चरण के आंकड़ों में 22 राज्यों/केन्द्रशासित प्रदेशों का नाम शामिल था. जिसके मुताबिक लक्षद्वीप में प्रति हजार पुरुषों पर महिलाओं की संख्या 1187 थी. जो सभी प्रदेशों और केन्द्रशासितों प्रदेशों में सबसे ज्यादा है. इसके अलावा आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, गोवा, हिमाचल प्रदेश, कर्नाटक, केरल, मेघालय, मणिपुर, मिजोरम, नागालैंड, त्रिपुरा और पश्चिम बंगाल में प्रति हजार पुरुषों पर महिलाओं की संख्या एक हजार से ज्यादा है.

National Family Health survey

National Family Health survey

ये भी पढ़ें: NFHS5: ऐसा पहली बार हुआ जब गांवों में महिलाओं की आबादी पुरुषों की अपेक्षा ज्यादा

इन राज्यों में प्रति हजार पुरुषों पर महिलाओं की संख्या 950 से ज्यादा

वहीं अंडमान एवं निकोबार, गुजरात, लद्दाख, महाराष्ट्र और सिक्किम में प्रति हजार पुरुषों पर महिलाओं की संख्या 950 से ज्यादा है. हालांकि सुधार की बात करें तो अंडमान निकोबार और लद्दाख में पहले की तुलना में ये कम हुआ है, जबकि गुजरात में 2015-16 में ये आंकड़ा 950 था जो बढ़कर 965 पहुंच गया है. इसके अलावा महाराष्ट्र और सिक्किम में भी पहले की तुलना में ये आंकड़े बढ़े हैं.

No comments

leave a comment