Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Thursday / December 2.
Homeन्यूजसिद्धू के खिलाफ कोर्ट के कामकाज में हस्तक्षेप का आरोप, हाईकोर्ट में अवमानना याचिका दायर, सजा की उठी मांग

सिद्धू के खिलाफ कोर्ट के कामकाज में हस्तक्षेप का आरोप, हाईकोर्ट में अवमानना याचिका दायर, सजा की उठी मांग

Allegation of interfering in the functioning of the court against Sidhu, contempt petition filed in the High Court, demand for punishment
Share Now

कांग्रेस के दिग्गज नेता नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu)अपने बयानों के कारण सुर्खियों में बने रहते हैं. हाल ही में नवजोत सिंह सिद्धू के ट्वीटस भी राजनीतिक गलियारों में चर्चा का विषय बने हुए हैं. इस बार नवजोत सिंह सिद्धू के ट्वीट ही उनके लिए परेशानी साबित हो गए हैं. सिद्धू के ट्वीट के खिलाफ कोर्ट में क्रिमिनल कंटेंप्ट दायर किया गया है.

दरअसल कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ हरियाणा और पंजाब हाईकोर्ट में क्रिमिनल कंटेंप्ट दायर की गई है. नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ होईकोर्ट के वकील परमप्रीत सिंह बाजवा ने ये याचिका दाखिल की है.

बाजवा ने इस याचिका के खिलाफ कहा कि ड्रग्स मामले में सिद्धू (Navjot Singh Sidhu)  हाईकोर्ट को डायरेक्शन देते हैं. उन्होंने कहा कि ड्रग्स मामले की सुनवाई में सिद्धू का ट्विट सिस्टम के खिलाफ है.

परमप्रीत सिंह बाजवा ने इस मामले में नवजोत सिंह सिद्धू का ट्विट भी शेयर किया है. बाजवा द्वारा शेयर किए गए इस याचिका में उन्हें सजा देने की मांग भी की गई है.हालांकि नियमों के तहत पहले एडवोकेट जनरल ये देखेंगे कि शिकायत में फैक्ट है या नहीं. बाजवा के अवमानना पिटीशन पर मंगलवार यानी 16 नवंबर को सुनवाई होनी है.

इसे भी पढ़े: गुजरात ATS की बड़ी सफलता, मोरबी से पकड़ा गया 600 करोड़ का ड्रग्स, 3 आरोपी गिरफ्तार

सिद्धू के ट्वीट से शुरु हुआ बवाल

बाजपा ने इस पिटीशन में बताया कि नवजोत सिंह सिद्धू कोर्ट के जिन मामले को लेकर ट्वीट के जरिए टिप्पाणियां कर रहे हैं. दरअसल वो कोर्ट की कार्रवाई में दखल देना है. पिटीशन में कोर्ट से अपील की गई है कि सिद्धू के खिलाफ जल्द से जल्द एक्शन लिया जाए और उन पर सख्त कार्रवाई की जाए. सिद्धू के खिलाफ ये पिटीशन उनके ट्वीट के खिलाफ दायर की गई है. 

नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ नशा तस्करी के मुद्दे पर उनके खिलाफ मुसीबत बढ़ती जा रही है. इसी मामले में अब वह घिर सकते हैं. उन पर आपराधिक अवमानना का मामला चल सकता है. हालांकि उन पर यह मामला चले या नहीं इसका फैसला हरियाणा के महाधिवक्ता करेंगे.

 

No comments

leave a comment