Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Thursday / September 29.
Homeट्रैवेलपर्वतारोहियों के लिए किसी चुनौती से कम नहीं, तेजपुर की ऊंची पहाड़ियां!

पर्वतारोहियों के लिए किसी चुनौती से कम नहीं, तेजपुर की ऊंची पहाड़ियां!

OUGURI HILLS
Share Now

असम नाम सुनते ही, हमारे अंतर मन में एक अलग सी छवि नजर आने लगती है। क्यूंकी असम की प्रकृति को संजोकर रखने का सम्पूर्ण श्रेय असम के निवासियों ही को जाता है। आज भी असम के ऐतिहासिक धार्मिक स्थानों, पर्यटन स्थलों को संजोकर रखा गया है। वैसे तो असम में कई सारी ऊंची ऊंची पहाड़ियाँ, प्रकृति के बीच हरियाली से घिरी झीलें ये सभी स्थान सेलानियों के लिए आकर्षण का केंद्र बन चुके हैं। 

जिसकी ऊंचाई से नजर आती है असम का तेजपुर शहर:- ‘Statue of Kanaklata’

ऐसा ही एक स्थान स्थापित है, ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे, तेजपुर की ऊंची पहाड़ियों पर, जिसकी ऊंचाई से नजर आता है असम का तेजपुर शहर।इस पर्वत का नाम है- ‘ओगुरी हिल्स'(Ouguri Hill)। Ouguri Hill Station ट्रेकिंग करने के लिए अत्यधिक लोकप्रिय है।

statue of Kanaklata

statue of Kanaklata, Image Credit: Google Image 

  • यह हिल्स क्लाईमबर्स के लिए किसी बड़ी चुनौती से कम नहीं है।
  • Ouguri Hill पर्वतारोहियों के लिए अत्यधिक लोकप्रिय है।
  • तेजपुर का यह पर्यटन स्थल पर्वतारोहियों के लिए किसी बड़ी चुनौती से कम नहीं है। 
  • क्यूंकी पहाड़ियों की चोटी तक बिना किसी तरह के संरक्षण के पहुंचना इतना आसान नहीं है।
  • पर्वतारोहियों को एक विशाल मोनोलिथ के होने पर भी कठिन चुनौतियों का सामना करना पड़ता है।
  • ओगुरी हिल्स की खास बात यह है कि, पहाड़ी के शिखर से ‘भारत छोड़ो आंदोलन’ के दौरान शहीद ‘वीरांगना कनकलता’ की प्रतिमा (statue of Kanaklata) स्पष्ट दिखाई देती है। 

यहाँ पढ़ें: इस झील की शीतलता, सुंदरता और प्राकृतिक नजारे हैं, सैलानियों के लिए आकर्षण का केंद्र!

Daparbatia

Daparbatia Image Credit: Google Image

Da Parbatia मंदिर में है मूर्तिकला कला का सबसे बेहतरीन और सबसे पुराना नमूना:-  

  • असम के तेजपुर जिले के पास ही एक छोटा से गाँव Da Parbatia से भी एक एतिहासिक कहानी जुड़ी हुई है।
  • यह मंदिर तेजपुर से कुछ किलोमीटर दूर दा परबटिया मंदिर के चौखट के खंडहर अत्यधिक आकर्षित हैं।
  • असम में मूर्तिकला कला का सबसे बेहतरीन और सबसे पुराना नमूना माना जाता है।
  • इसकी नक्काशी प्रारंभिक गुप्त शैली की मूर्तिकला की विशेषता है।
  • वास्तु शास्त्र में उल्लेखित महत्वपूर्ण चिन्हों से पता चलता है कि, यह मंदिर 6वीं शताब्दी में बनवाया गया था।
    राजा अहोम के समय में इस जगह पर भगवान शिव का मंदिर बनवाया गया था।
  • Da Parbatia मंदिर में 6वीं शताब्दी के शिलालेख मौजूद हैं। 

आगे भी असम के पर्यटन स्थलों के बारे में जानेंगें। अभी असम से जुड़े ऐसे कई इतिहास हैं जिनके पन्नों को फिर से पलटेंगें। 

देश दुनिया की खबरों को देखते रहें, पढ़ते रहें OTT INDI App पर…. 

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

iOS: http://apple.co/2ZeQjTt 

No comments

leave a comment