Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Saturday / January 22.
Homeभक्तिएक ऐसा स्थान जहां सूर्यास्त के बाद जाना माना है…..

एक ऐसा स्थान जहां सूर्यास्त के बाद जाना माना है…..

temple in woods
Share Now

शत्रुंजय तीर्थ पालीताना (Shatrunjaya Palitana):  शत्रुंजय तीर्थधाम जैन धर्म के शिरोमणि तीर्थस्थानों में से एक है। सिद्ध तीर्थ स्थान की यात्रा करने से सुख, शांति और मोक्ष की प्राप्ति होती है। अनंत तीर्थंकरों के समय से शत्रुंजय तीर्थधाम मुख्य एवं शाश्वत तीर्थ रहा है, इस स्थान पर असंख्य तीर्थंकरों और योगी, मुनियों ने तपस्या कर मोक्ष प्राप्त किया।

शिखऱ पर 863 से भी ज्यादा शिखरबंधी जिनालय:

2000 फुट ऊंचाई पर बना हुआ शत्रुंजय तीर्थ गुजरात राज्य के भावनगर जिले के पालीताना शहर की चोटियों पर स्थित है। श्री शत्रुंजय महातीर्थ के शिखऱ पर 863 से भी ज्यादा शिखरबंधी जिनालय, लगभग 7 हजार मंदिर और 17 हजार से भी ज्यादा भगवान की प्रतिमाएं शोभायमान हैं। मुख्य मंदिर जैन धर्म के पहले तीर्थकर भगवान आदिनाथ को समर्पित है। पालीताना का 1618 ईस्वी में बना “चौमुखा मंदिर” विशाल मंदिर है, जिसका धर्मिक रूप से अधिक महत्व है। 

शत्रुंजय तीर्थ पालिताना

शत्रुंजय तीर्थ पालिताना, google image

इस धाम को शत्रुंजय तीर्थ क्यों कहा जाता है?

शिरोमणि तीर्थ धाम पर महान तीर्थंकरों को क्रोध, ईर्ष्या, मोह, लोभ, जैसे विकाररूपी शत्रुओं को परास्त कर विजय की प्राप्ति हुई थी, इसलिए पवित्र तीर्थ स्थान को शत्रुंजय तीर्थ कहा जाता है। जैन धर्म के इस पवित्र तीर्थ स्थल का महत्व महाभारत काल से चला आ रहा है, पालीताना जैन मंदिरों में तीन पांडव भाइयों भीम, युधिष्ठिर और अर्जुन ने भी निर्वाण प्राप्त किया था। 

palitana temple

Palitana temple, google image

पौराणिक कथा के अनुसार जैन तीर्थकरों का धार्मिक क्रीड़ा स्थल (Palitana temple)

महातीर्थ स्थान जैन तीर्थंकरों का धार्मिक क्रीड़ा स्थली भी रह चुका है। पौराणिक कथा के अनुसार, जैन धर्म के प्रथम तीर्थंकर ऋषभदेव ने 11 बार विहार किया था, ऐसा कहा जाता है कि, जैन धर्म के इस पावन तीर्थ शत्रुंजय का एक– एक कण तीर्थंकर ऋषभदेव के चरण स्पर्श से पवित्र हुआ है। इस पवित्र स्थल पर 8 करोड़ ऋषि-मुनियों को मोक्ष की प्राप्ति हुई थी और जैन धर्म के कई महान तीर्थंकरों ने यहां निर्वाण प्राप्त किया था। महातीर्थ शत्रुंजय की महिमा का उल्लेख जैन धर्म के प्राचीन ग्रंथों और शास्त्रों में किया गया है। 

shatrunjay tirthdham

shatrunjay tirthdham, google image

पालीताना जैन मंदिरों की वास्तुकला:

पालीताना मंदिर में बहुमूल्य और बेहद आर्कषक प्रतिमाओं का भी संग्रह है, (Palitana temple) इन मंदिरों की नक़्क़ाशी और मूर्तिकला समग्र विश्व में प्रसिद्ध है। पालीताना मंदिरों के शिखर पर जब सूर्य का प्रकाश पड़ता है तो ऐसे अद्भुत और अनुपम छटा का दृश्य अति आर्कषक और मनोरम लगता है। 

श्री दाठा तीर्थ

श्री दाठा तीर्थ, google image

सूर्यास्त पश्चात किसी भी व्यक्ति को शिखर पर जाने की अनुमति नहीं: 

सूर्यास्त पश्चात किसी भी व्यक्ति को शिखर की ओर जाने की अनुमति नहीं होती है,  मान्यताएं हैं कि रात्रि के समय भगवान विश्राम करते हैं और सभी मंदिर के द्वार बंद कर दिए जाते हैं। श्रद्धालुओं को संध्या से पूर्व दर्शन कर पहाड़ से नीचे उतरना अनिवार्य है। शिरोमणि तीर्थ स्थान पर आने वाले हर भक्त की मनोकामना पूर्ण होती है।

आप भी गुजरात के शिरोमणि तीर्थ स्थान शत्रुंजय तीर्थ पर अवश्य पधारें। 

देखें यह वीडियो:पोइचा धाम मंदिर  (Poicha Temple)

देश दुनिया की खबरों को देखते रहें, पढ़ते रहें.. और OTT INDIA App डाउनलोड अवश्य करें.. स्वस्थ रहें..

No comments

leave a comment