Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Wednesday / October 5.
Homeऑटो एंड गैजेट्सजानिए, Pegasus Spyware क्या है, और कैसे काम करता है?

जानिए, Pegasus Spyware क्या है, और कैसे काम करता है?

Pegasus Spyware
Share Now

Pegasus Spyware: फोन की जासूसी करने का काम करता है, पेगासस सॉफ्टवेयर। इस सॉफ्टवेयर का निर्माण इजराइल की साइबर सुरक्षा कंपनी (Cyber security company) के NSO ग्रुप  (Niv, Shalev and Omri) टेक्नोलॉजी द्वारा बनाया गया है। पेगासस एक स्पाइवेयर की तरह काम करता है। खबर के मुताबिक, NSO ग्रुप कंपनी इसी तरह के जासूसी सॉफ्टवेयर बनाने का कार्य करती  है। 

Pegasus Spyware कैसे काम करता है? 

  • पेगासस स्पाइवेयर एक ऐसा सॉफ्टवेयर है जो बिना सहमति के फोन को हैक कर सकता है। 
  • इस सॉफ्टवेयर के अंतर्गत ऐसे प्रोग्राम बनाए गए हैं, स्मार्टफोन, iPhone किसी को भी तरह के स्मार्ट फोन को हैक कर सकता है। 
  • हैकर की तरह पेगासस, फोन के माइक्रोफोन, कैमेरा, ईमेल, मेसेजेस, लोकेशन, ऑडिओ और वीडियो तक की जानकारी ले सकता है। 
  • आपके फोन की किसी भी तरह का DATA या जानकारी इस सॉफ्टवेयर से बच नहीं सकती है। 
  • पेगासस स्पाइवेयर कॉल रिकॉर्डिंग (Call Recording) सुनने  से लेकर स्क्रीनशॉट लेने, (Record Keystrokes) कीस्ट्रोक्स रिकॉर्ड करने में भी सक्षम है। 
  • यहाँ तक कि यह सॉफ्टवेयर कॉन्टेक्ट्स (Contacts) और ब्राउज़र हिस्ट्री (Browser History) तक पहुंचने में भी अत्यधिक सक्षम है।
  • Cybersecurity company Kaspersky के मुताबिक, शुरुआती दिनों में यह सॉफ्टवेयर एसएमएस (SMS) के जरिए काम करता था।
  • एक लिंक के साथ एक SMS भेजा जाता था, लिंक पर क्लिक करते ही स्मार्ट फोन या डिवाइस स्पाइवेयर के कंट्रोल में आ जाता था। 
Spyware-representational-

Spyware-representational, Image Credit: Google Image

पेगासस स्पाइवेयर बनाने का उद्देश्य:- 

  • पेगासस एक स्पाइवेयर सॉफ्टवेयर बनाने का एक मात्र उद्देश्य है, आतंकवादी गतिविधियों को रोकना और नागरिकों के जीवन को सुरक्षित रखने के लिए बनाया गया है। 
  • यह सॉफ्टवेयर सरकारी खुफिया एजेंसियों को बेचा जाता है। इसकी मदद से एजेंसिया गुनेगाहरों, क्रीमीनलों, आतंकवादियों की गतिविधियों का पता लगाती हैं। 
  • पेगासस स्पाइवेयर की खोज पहली बार 2016 में iOS डिवाइस से की गई थी। इसके बाद Android फोन के लिए एक अलग वर्जन में बनाया गया। 
  • Pegasus एक Malware टाईप का महंगा सॉफ्टवेयर है। इसलिए इसका उपयोग केलव खुफिया एजेंसियां ही कर सकती हैं। 
  • पेगासस स्मार्ट डिवाइस का एक्सेस ऐसे ले लेता है जिसकी भनक भी नहीं लगती है। 
  • यह सॉफ्टवेयर iMessage, WhatsApp और FaceTime जैसी ऐप में मौजूद बग्स पर निर्भर करते हैं, जो यूज़र के डेटा की जानकारी लेने का काम शुरू कर देते हैं।  
Spyware

Spyware Image Credit: Google Image

यहाँ पढ़ें: Tokyo Olympics LIVE Updates: मीराबाई चानू ने रचा इतिहास, भारत को दिलाया पहला मेडल

पेगासस प्रोजेक्ट क्या है? (Pegasus Project)

पेगासस प्रोजेक्ट दुनिया भर के 17 मीडिया संगठनों के पत्रकारों का एक समूह है, जो NSO ग्रुप और उनके सरकारी ग्राहकों की जांच कर रहा है। Pegasus, iPhone और Android उपकरणों को लक्षित करता है। एक बार Pegasus इंस्टाल हो जाने के बाद, इसका ऑपरेटर फोन से चैट, फोटो, ईमेल और लोकेशन डेटा प्राप्त कर लेता है। उपयोगकर्ता को इस बात भी भनक भी नहीं लगती और Pegasus स्पाइवेयर फ़ोन का माइक्रोफ़ोन और कैमेरा को ऐक्टिवेट करना शुरू कर देता है। 

देश दुनिया की खबरों को देखते रहें, पढ़ते रहें OTT INDI App पर…. 

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

iOS: http://apple.co/2ZeQjTt 

No comments

leave a comment