Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Friday / November 26.
Homeन्यूजविदेश दौरे से वापस लौटे पीएम मोदी, कम कोरोना वैक्सीनेशन वाले जिलों की स्थिति की करेंगे समीक्षा

विदेश दौरे से वापस लौटे पीएम मोदी, कम कोरोना वैक्सीनेशन वाले जिलों की स्थिति की करेंगे समीक्षा

Low Vaccination Coverage
Share Now

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Modi) विदेश दौरे से वापस लौटते ही एक्शन मोड में दिख रहे हैं. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज कम कोरोना वैक्सीनेशन वाले जिलों (Low Vaccination Coverage) के जिलाधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक करेंगे. मतलब बैठक में इस बात पर चर्चा होगी आखिर कोरोना वैक्सीनेशन की रफ्तार कम क्यों है.

बैठक में शामिल होंगे ये जिले

बैठक में प्रदेश के वो जिले शामिल होंगे, जहां अभी भी 50 प्रतिशत से कम लोगों को वैक्सीन (Low Vaccination Coverage) की पहली डोज लगी है और दूसरी डोज की संख्या कम है. झारखंड, मणिपुर, अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, महाराष्ट्र, मेघालय समेत कई राज्यों के 40 से ज्यादा जिलाधिकारियों के साथ पीएम मोदी बातचीत करेंगे.

सुबह ही विदेश दौरे से लौटे पीएम मोदी

बता दें कि पीएम मोदी (PM Modi) आज सुबह ही विदेश दौरे से वापस लौटे हैं. 29 नवंबर को विदेश दौरे पर गए पीएम मोदी ने इटली के रोम में जी-20 समिट में हिस्सा लेने के साथ-साथ कई अन्य कार्यक्रम में शिरकत की.

COP26 से पंचामृत का संदेश

उसके बाद पीएम मोदी ने वेटिकन सिटी में पोप फ्रांसिस से मुलाकात की और फिर ग्लासगो में आयोजित COP 26 में हिस्सा लिया. इस दौरान पीएम मोदी ने जलवायु परिवर्तन को लेकर दुनिया को पंचामृत का संदेश दिया.

2070 तक नेट जीरो का लक्ष्य

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जलवायु परिवर्तन (Climate Change) सम्मेलन में भारत का लक्ष्य दुनियाभर के देशों के सामने रखा और 2070 तक कार्बन उत्सर्जन को नेट जीरो करने का लक्ष्य को हासिल करने का दावा किया. हालांकि जलवायु परिवर्तन के इस सम्मेलन में लोगों से  यह उम्मीद की जा रही थी कि वो इस लक्ष्य को 2050 तक पूरा कर लेंगे. लेकिन पीएम मोदी ने इस लक्ष्य को आगे बढ़ाते हुए भारत का रुख साफ कर दिया है.

ये भी पढ़ें: जलवायु परिवर्तन पर पीएम मोदी के 5 मंत्र, जानिए 2030 तक कैसे बदलेगा भारत ?

सिड्स के लिए स्पेशल डेटा विंडो बनाएगी इसरो

साथ ही मंगलवार को IRIS के लॉन्च के मौके पर बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा कि यह हमारे पापों का साझा प्रायश्चित है. इससे SIDS को भी काफी मदद मिलेगी, इसरो (ISRO) सिड्स के लिए स्पेशल डेटा विंडो का निर्माण करेगी. ये सिर्फ एक इंफ्रास्ट्रक्चर की बात नहीं बल्कि मानव कल्याण के अत्यंत संवदेनशील दायित्व का हिस्सा है.  

No comments

leave a comment