Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Wednesday / October 5.
Homeन्यूजमन की बात में बोले PM मोदी-युवाओं में खेल के प्रति बढ़ता उत्साह मेजर ध्यानचंद को सच्ची श्रद्धांजलि

मन की बात में बोले PM मोदी-युवाओं में खेल के प्रति बढ़ता उत्साह मेजर ध्यानचंद को सच्ची श्रद्धांजलि

Mann Ki Baat
Share Now

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात (Mann Ki Baat) में राष्ट्रीय खेल दिवस से लेकर कोविड टीकाकरण और जन्माष्टमी तक का जिक्र किया. पीएम मोदी ने कहा कि ओलिंपिक और पैरालिंपिक में भारत की सफलता के साथ ही युवाओं में खेल के प्रति जुनून मेजर ध्यानचंद को सच्ची श्रद्धांजलि है. प्रधानमंत्री मोदी ने अपने स्वतंत्रता दिवस भाषण का भी उल्लेख किया, जिसमें उन्होंने सबका साथ, सबका विकास के नारे लगाए. 

युवाओं को खेलों में महारत हासिल करनी चाहिए

पीएम मोदी ने कहा कि हम सभी देशवासी इस मंत्र को ‘सबका प्रयास’ को साकार करके इस उत्साह को जितना हो सके, ले सकते हैं और जितना योगदान कर सकते हैं, कर सकते हैं. युवाओं को इस अवसर का लाभ उठाकर विभिन्न प्रकार के खेलों में महारत हासिल करनी चाहिए. गांव से गांव की खेल प्रतियोगिताएं जारी रहनी चाहिए. उन्होंने कहा, ‘मेजर ध्यानचंद जैसे लोगों के दिखाए रास्ते पर आगे बढ़ना हमारी जिम्मेदारी है. वर्षों बाद देश में एक समय ऐसा आया है जब एक परिवार, एक समाज, एक राज्य, एक राष्ट्र सभी लोग एक दिमाग से इस खेल से जुड़ रहे हैं.

अध्यात्म और दर्शन के बारे में भी बात करें

मन की बात (Mann Ki Baat) के दौरान पीएम मोदी ने आध्यात्मिकता और दर्शन के बारे में भी बात की. उन्होंने कहा, जहां आज दुनिया के लोग भारतीय आध्यात्मिकता और दर्शन के बारे में बहुत सोचते हैं, वहीं इन महान परंपराओं को आगे बढ़ाना हमारी जिम्मेदारी है. 

PM MODI

Image Courtesy: Hindustan times

62 मिलियन से अधिक कोरोना के टीके दिए गए

उन्होंने राष्ट्रीय खेल दिवस पर मेजर ध्यानचंद को याद करते हुए कहा, ‘मेजर ध्यानचंद जी जैसे लोगों के दिखाए रास्ते पर आगे बढ़ना हमारी जिम्मेदारी है. पीएम ने कहा कि देश में सालों बाद एक ऐसा दौर आया है जहां परिवार, समाज, राज्य, राष्ट्र होना चाहिए, हर कोई एक दिमाग से खेल से जुड़ रहा है. अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि सभी के प्रयासों से भारत खेलों में इतनी ऊंचाईयों तक पहुंच पाएगा. उन्होंने कहा, देश में 62 करोड़ से ज्यादा कोरोना के टीके दिए जा चुके हैं, लेकिन फिर भी हमें सावधान रहना होगा. 

ये भी पढ़ें: राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर कसा तंज, ‘पहले खत्म करें वैक्सीन की कमी, फिर सुनाए मन की बात

हमें प्रतिभाशाली होने पर गर्व होना चाहिए

पीएम मोदी ने कहा कि एक समय था जब कौशल का हमारे पारिवारिक जीवन, सामाजिक जीवन, राष्ट्रीय जीवन पर बहुत प्रभाव पड़ता था, लेकिन गुलामी के लंबे दौर में कौशल के प्रति सम्मान की भावना को धीरे-धीरे भुला दिया गया. हमारी सोच ऐसी हो गई कि हुनर ​​पर आधारित काम छोटे लगने लगे। “हमें कौशल का सम्मान करना होगा, हमें कुशल बनने के लिए कड़ी मेहनत करनी होगी. उन्होंने कहा हमें प्रतिभाशाली होने पर गर्व होना चाहिए.

जन्माष्टमी के बारे में बात करें

पीएम मोदी ने कहा, ‘कल जन्माष्टमी का भी महापर्व है. जन्माष्टमी का यह पर्व भगवान कृष्ण के जन्म का पर्व है. तूफानी कन्हैया से लेकर विश्वरूप कृष्ण तक, शास्त्रीय शक्ति से लेकर शस्त्र-शक्तिशाली कृष्ण तक, भगवान के सभी रूपों से हम परिचित हैं. 

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

iOS: http://apple.co/2ZeQjTt 

No comments

leave a comment