Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Tuesday / August 9.
Homeन्यूजपीएम मोदी ने बताया कांग्रेस न होती तो क्या होता, रोजगार पर दिया ये बड़ा बयान

पीएम मोदी ने बताया कांग्रेस न होती तो क्या होता, रोजगार पर दिया ये बड़ा बयान

modji
Share Now

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी(PM Modi On Congress) ने राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब देते हुए कांग्रेस पर निशाना साधा. पीएम मोदी ने सदन में गिन-गिनकर उन बातों को बताया कि अगर कांग्रेस न होती तो देश में क्या होता, देश तरक्की की राह पर कैसे आगे बढ़ जाता. साथ ही प्रधानमंत्री ने रोजगार और महंगाई के मुद्दे पर सवाल उठाने वालों को भी करारा जवाब दिया है.

पीएम मोदी ने बताया कांग्रेस न होती तो क्या होता

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी(PM Modi) ने कहा कि यहां कहा गया कि कांग्रेस न होती तो क्या होता. मैं सोच रहा हूं कि कांग्रेस न होती तो क्या होता. महात्मा गांधी की इच्छा के मुताबिक अगर कांग्रेस न होती तो आज लोकतंत्र परिवारवाद से मुक्त होता. भारत विदेशी चश्मे की बजाय स्वदेशी संकल्पों के रास्ते पर चलता. अगर कांग्रेस न होती तो इमरजेंसी का कलंक न होता. अगर कांग्रेस न होती तो दशकों तक करप्शन को संस्थागत बनाकर नहीं रखा जाता. अगर कांग्रेस न होती जातिवाद की खाई इतनी गहरी न होती. अगर कांग्रेस न होती तो सिखों का नरसंहार न होता.

कांग्रेस न होती तो ये होता

सालों साल पंजाब आतंकी आग में न जलता. अगर कांग्रेस न होती तो कश्मीर के पंडितों को कश्मीर छोड़ने की नौबत न आती. अगर कांग्रेस न होती तो देश के सामान्य मानव का घर, सड़क, बिजली, पानी और शौचालय जैसी मूल सुविधाओं के लिए इतने सालों तक इंतजार न करना पड़ता. कांग्रेस जब सत्ता में रही तो देश का विकास नहीं होने दिया और जब विपक्ष में है तब भी बाधा डाल रही है. कांग्रेस को नेशन पर भी आपत्ति है, अगर ये गैर संवैधानिक है तो आपकी पार्टी का नाम इंडियन नेशनल कांग्रेस क्यों रखा गया. अब नई सोच आई है तो नाम बदलकर फेडरेशन ऑफ कांग्रेस करके अपने पूर्वजों की गलती सुधार दीजिए.

परिवारवादी पार्टियों से लोकतंत्र का खतरा

पीएम मोदी ने ये भी कहा कि भारत के लोकतंत्र को सबसे बड़ा खतरा परिवावारवादी पार्टियों का है और पार्टी में जब कोई परिवार सर्वोपरि होता है, सबसे पहली कैजुअलिटी टैलेंट की होती है. देश ने लंबे अरसे तक इस सोच का बहुत नुकसान उठाया है. मैं चाहता हूं कि सभी राजनीतिक दल लोकतांत्रिक आदर्शों और मूल्यों को अपने अंदर समाहित करे, सबसे पुरानी पार्टी के रूप में कांग्रेस इसकी जिम्मेदारी उठाए.

ये भी पढ़ें: काशी की गलियों में जब PM Modi ने काफिला रोक, बुजुर्ग व्यक्ति से बंधवाई पगड़ी, तेजी से वायरल हो रहा Video

रोजगार पर पीएम ने कहा कि 2021 में एक करोड़ 20 लाख लोग ईपीएफओ से जुड़े हैं, ये सब फॉर्मल जॉब है. 18 से 25 साल के 65 लाख लोगों को नौकरी मिली है, कोविड प्रतिबंध खुलने के बाद नौकरियां मिलने की रफ्तार दोगुनी हुई है. मतलब लोगों को नौकरियां मिल रही है. यूपीए के समय महंगाई डबल डिजिट छू रही थी, हमने इसे रोकने की कोशिश की है. 

No comments

leave a comment