Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Tuesday / November 30.
Homeन्यूजप्रियंका गांधी पर कविता चोरी का आरोप, जानें, क्या बोले कविता लिखने वाले पुष्यमित्र उपाध्याय

प्रियंका गांधी पर कविता चोरी का आरोप, जानें, क्या बोले कविता लिखने वाले पुष्यमित्र उपाध्याय

Priyanka Gandhi
Share Now

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी( Priyanka Gandhi) पर कविता चोरी का आरोप लगा है. आरोप ये है कि उन्होंने पुष्यमित्र उपाध्याय की लिखी कविता चोरी कर उसे लोगों के बीच राजनीतिक उद्देश्य से पढ़ा. पुष्यमित्र उपाध्याय(Pushyamitra Upadhyay) ने इसे लेकर प्रियंका गांधी पर निशाना साधा है.

पुष्यमित्र उपाध्याय ने साधा प्रियंका पर निशाना

पुष्यमित्र उपाध्याय(Pushyamitra Upadhyay) ने कहा है कि प्रियंका जी मैंने ये कविता देश की स्त्रियों के लिए लिखी थी, आपकी घटिया राजनीति के लिए नहीं. उन्होंने आगे लिखा कि मैं न तो आपकी विचारधारा का समर्थन करता हूं और न ही आपको ये अनुमति देता हूं कि आप मेरी साहित्यिक संपत्ति का राजनीतिक उपयोग करें. कविता भी चोरी कर लेने वालों से देश क्या उम्मीद रखेगा.

सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल

प्रियंका गांधी का चित्रकूट(Priyanka Gandhi In Chitrakot) में मंदाकिनी नदी के किनारे रामघाट पर दिए गए भाषण का वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल भी हो रहा है. जिसमें प्रियंका गांधी कविता की कुछ लाइन बोलती दिख रही हैं. हालांकि पूरे वीडियो को सुनने पर पता चलता है कि प्रियंका गांधी ने कवि का नाम नहीं लिया है.

प्रियंका गांधी ने कहा- एक कवि ने कहा था

लेकिन प्रियंका गांधी ने इतना जरूर कहा है कि एक कवि ने कहा था, मतलब पुष्यमित्र उपाध्याय का नाम लेने की बजाय प्रियंका ने एक कवि कहा. उसके बाद प्रियंका ने कहा कि सुनो द्रौपदी शस्त्र उठा लो, अब गोविंद न आएंगे, कब तक आस लगाओगी तुम बिके हुए अखबारों से. प्रियंका गांधी ने इसका मतलब समझाते हुए कहा कि मतलब ये है कि तुम्हारी लाइन लड़ने कोई नहीं आएगा.

ये भी पढ़ें: यूपी में प्रियंका का महिलाओं से संवाद, कहा- सुनो द्रोपदी शस्त्र उठा लो अब गोविंद न आएंगे

बीजेपी ने प्रियंका पर कसा तंज

अब इसे लेकर बीजेपी नेताओं ने भी तंज कसा है. यूपी बीजेपी ने तंज कसते हुए लिखा है कि चोरी की आदत कांग्रेसियों की जाती नहीं, शर्म है कि प्रियंका जी को आती नहीं. अब जब देश को लूट नहीं पा रहे हैं तो कविता ही चोरी करने लगे. वहीं सिद्धार्थनाथ सिंह ने इस पर तंज कसते हुए कहा कि यह दुर्योधन युग नहीं चल रहा, यह मोदी युग है. इसमें द्रौपदी का चीर हरण नहीं होगा.

No comments

leave a comment