Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Saturday / September 24.
Homeडिफेंसभारतीय नौसेना ‘Predator Drone’ से रखेगी दुश्मनों पर नजर!

भारतीय नौसेना ‘Predator Drone’ से रखेगी दुश्मनों पर नजर!

Predator Drone
Share Now

नई दिल्ली: भारतीय नौ सेना अपनी ताकत को बढ़ाने के हर कदम उठा रही है। रक्षा मंत्रालय द्वारा 6 स्वदेशी सबमरीन बनाने का ऐलान कर दिया गया है। इससे नौसेना की ताकत और भी बढ़ जाएगी। इसके अलावा चीन के साथ बढ़ते संघर्ष की वजह से तथा दुश्मनों पर निगरानी रखने के लिए 30 प्रिडेटर ड्रोन को भी शामिल किया है। भारतीय नौसेना ने दो प्रिडेटर ड्रोन (MQ-9 Predator Drone) की मदद से समुद्री इलाकों पर अपनी सख्त नजर बनाए रखी है। 

समुद्री सीमा पर प्रीडेटर ड्रोन से रखी जाएगी नजर: नौसेना के चीफ 

नौसेना के चीफ वाइस एडमिरल जी अशोक कुमार (Navy Vice Chief Vice Admiral G Ashok Kumar) का कहना है कि, सबमरीन किसी भी नौसेना के लिए बेहद अहम होती है। ऐसे में 6 नई सबमरीन शामिल होना एक अहम फैसला है। इससे देश की ताकत कई गुना संमदर में बढ़ जाएगी। और  प्रीडेटर ड्रोन के जरिए समुद्री सीमा पर बहुत दूर तक नजर रखी जा सकती है। बंगाल की खाड़ी से लेकर पूरी समुद्री सीमा पर प्रीडेटर ड्रोन (Predator Drone) से चीन, जापान और श्रीलंका हर देश के शिप पर आसानी से नजर रखी जाएगी। जिससे समुद्री सीमा को कोई पार नहीं कर सकेगा। 

VAdm G Ashok Kumar

 Image Source: Indian Nanvy Navy Vice Chief Vice Admiral G Ashok Kumar

चीफ वाइस एडमिरल जी अशोक कुमार ने यह भी बताया कि, प्रिडेटर ड्रोन की मदद से भारतीय नौसेना को पूरे हिंद महासागर क्षेत्र में समुद्री बल की निगरानी बढ़ाने में मदद मिली। इसके जरिए हमने समुद्री इलाकों से गुजरने वाले उन जहाजों पर भी पैनी नजर रखी, जो नियमों का पालन नहीं करते। इन ड्रोन्स की मदद से हमने दुश्मन की हर हरकत पर बहुत ही नजदीक से नजर बनाए रखने में सफल हो पाए।

Mq-9 Sea Guardian Drone से समुद्री बल की क्षमता बढ़ी: नेवी चीफ

खबरों के मुताबिक, नेवी के वाइस चीफ वाइस एडमिरल जी अशोक कुमार ने बताया,  Mq-9 Sea Guardian Drone (MQ-9 Predator C) हमें एक बड़े इलाके पर नजर रखने की ताकत को बढ़ा देते हैं। उन्होंने बताया कि, ड्रोन का उपयोग संभावित दुश्मनों पर नजर रखने के लिए किया जाता है, लेकिन इसका इस्तेमाल उन जहाजों की निगरानी के लिए भी किया जाता है, जिनका मूवमेंट चिंताजनक लगे यानी वैसे जहाज जो कि समुद्री सीमाओं के कानून का पालन नहीं करते। फिर चीन या जापान कोई भी देश के जहाज हों। 

यहाँ पढ़ें: आईजी अनिल कुमार हरबोला ने संभाला तटरक्षक कमांडर का प्रभार!

प्रिडेटर ड्रोन की खासियत क्या है? (Mq-9 Sea Guardian Drone)

Mq-9 Sea Guardian Drone

Mq-9 Sea Guardian Drone Image Credit: Google image

  • प्रिडेटर सी गार्डियन ( Mq-9 Sea Guardian Drone) में टर्बोफैन इंजन (Turbofan) और स्टील्थ एयरक्राफ्ट (Stealth aircraft) के तमाम फीचर शामिल हैं। 
  • प्रिडेटर ड्रोन एकदम सटीक निशाना साधने में सक्षम हैं। 
  • यह ड्रोन 2,900 किलोमीटर की ऊंचाई तक उड़ सकता है।
  • प्रिडेटर ड्रोन लगभग 50 हजार फीट की ऊंचाई पर 35 घंटे तक उड़ान भरने में सक्षम है।
  • इसके अलावा 6500 पाउंड का पेलोड लेकर उड़ सकता है।
  • ड्रोन  की लंबाई 8.22 मीटर है।
  • 2.1 मीटर ऊंचे इस ड्रोन के पंखों की चौड़ाई लगभग 16.8 मीटर है।
  • प्रिडेटर ड्रोन की फ्यूल कैपिसिटी 100 गैलन  है।
  • प्रिडेटर ड्रोन का निर्माण अमेरिकी कंपनी General Atomics Aeronautical Systems द्वारा किया गया है। 

यहाँ पढ़ें: ऋषिकेश-श्रीनगर नेशनल हाईवे ब्लॉक, 6 राज्यों में भारी बारिश की चेतावनी!

श्रीलंका में चीन की मौजूदगी से खतरा: एडमिरल जी अशोक कुमार 

श्रीलंका में नए चीनी पोर्ट प्रोजेक्ट पर नेवी चीफ ने बताया कि, श्रीलंका में चीन की मौजूदगी भारत के लिए खतरा बन सकती है। जिस पर भारतीय नौसेना अपनी नजर बनाए हुए है। हम पूरी मुस्तैदी के साथ समुद्री सीमाओं की रक्षा कर रहे हैं। कोई दुश्मन भारतीय नौसेना की आंखों में धूल नहीं झोंक सकता।

खबरों के मुताबिक, लद्दाख की गालवान घाटी में संघर्ष के बाद तीनों सेनाएं पूरी तरह अलर्ट हो चुकी थी। किसी भी तरह की ढील नहीं देना चाहती थीं। इसलिए समुद्री सीमाओं में चीनी वॉरशिप और अन्य संदिग्ध जहाजों की आवाजाही पर कड़ी नजर रखने के लिए दो प्रिडेटर ड्रोन (Mq-9 Sea Guardian Drone) अमेरिका से लीज पर लिए गए थे। दोनों ड्रोन पिछले साल नवंबर के मध्य में भारत आए थे तभी से नवंबर के तीसरे हफ्ते में इस सिस्टम को चालू कर दिया गया था।

देश दुनिया की खबरों को देखते रहें, पढ़ते रहें.. और OTT INDIA App डाउनलोड अवश्य करें..  स्वस्थ रहें.. 

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

iOS: http://apple.co/2ZeQjTt 

No comments

leave a comment