Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Friday / October 15.
Homeन्यूजलखीमपुर हिंसा! प्रियंका गांधी ने यूपी में योगी सरकार के साथ बढ़ाई सपा-बसपा की टेंशन!

लखीमपुर हिंसा! प्रियंका गांधी ने यूपी में योगी सरकार के साथ बढ़ाई सपा-बसपा की टेंशन!

Priyanka Gandhi vs Yogi Govt
Share Now

Priyanka Gandhi vs Yogi Govt: लखीमपुर खीरी की घटना ने पुरे देश को हिला कर रख दिया है। इस हिंसक घटना के बाद सियासत भी गरमा चुकी है। सभी विपक्षी पार्टियां यूपी की योगी सरकार पर जमकर निशाना साध रही है। इस पुरे मामले में कांग्रेस ने यूपी में सपा और बसपा से भी ज्यादा अपनी सियासत चमकाने का प्रयास किया है। पिछले दो-तीन दिन से यूपी में जो सियासी माहौल देखने को मिला उससे साफ़ हो रहा है कि कांग्रेस यूपी में प्रियंका गांधी के नेतृत्व में बड़ा खेला करने जा रही है। हिरासत (Priyanka Gandhi vs Yogi Govt) के बाद भी प्रियंका ने साफ़ कहा कि वो बिना पीड़ित परिवारों से मिले वापस नहीं लौटेगी।

Priyanka Gandhi vs Yogi Govt

पिछले 3 साल से यूपी में काफी सक्रिय प्रियंका गांधी:

प्रियंका गांधी पिछले 3 साल से यूपी में काफी सक्रिय रही है। ग्रामीण स्तर तक प्रियंका गांधी ने अपनी टीम बनाई है। आने वाले चुनाव में कांग्रेस अपने 30 साल के वनवास को खत्म करने के प्रयास में जुटी है। लखीमपुर की घटना को भुनाने में प्रियंका गांधी और यूपी कांग्रेस कोई कमी नहीं छोड़ रही है। यूपी में जब भी ऐसी कोई बड़ी दिल दहला देने वाली घटना होती है तो प्रियंका ही पहली नेता होती है जो पीड़ित परिवार के साथ खड़ी नज़र आती है। इससे पहले हाथरस वाली घटना शायद ही कोई भूल पाया होगा। प्रियंका गांधी के जनता से इस तरह सीधे संपर्क से योगी सरकार की टेंशन बढ़ी हुई है।

ये भी पढ़ें: लखीमपुर खीरी हिंसा: हाउस अरेस्ट में प्रियंका गांधी, कहा- किसानों से मिले बिना नहीं जाऊंगी

यूपी पुलिस ने जब देर रात प्रियंका गांधी को गिरफ्तार किया था, उस समय पुलिस के सामने प्रियंका का रौद्र रूप देखने को मिला था। यह वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा था। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के इस अंदाज़ से लोग सोशल मीडिया पर उनकी तुलना इंदिरा गांधी से कर रहे थे। लेकिन ये बात सत्य है कि पिछले कई सालों में कांग्रेस ने उत्तरप्रदेश में अपना वजूद खो दिया है। पार्टी अब हासिए पर खड़ी नज़र आती है। लेकिन प्रियंका गांधी इस समय पार्टी के लिए संकटमोचक की भूमिका में नज़र आ रही है।

ये भी पढ़ें: क्या प्रियंका गांधी कांग्रेस को यूपी में वापस दिला पाएगी तीन दशक से खोया जनाधार..?

कांग्रेस के इस मिटते वजूद के चलते यूपी के क्षेत्रीय पार्टियां सपा और बसपा भी कांग्रेस से गठबंधन करने के लिए मना कर चुकी है। लेकिन लखीमपुर खीरी की घटना के बाद प्रियंका गांधी एक अलग ही ताकत के साथ विपक्ष की भूमिका निभा रही है। इससे सपा प्रमुख अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमों मायावती को जरूर सोचने पर मजबूर होना पड़ेगा। कहीं सपा-बसपा कांग्रेस को कमजोर समझने की भूल करके अपना बड़ा नुकसान ना कर लें।

ये भी पढ़ें: UP Chunav 2022: सभी पार्टियों की नज़रें ब्राह्मण वोटों पर, 1989 से कोई ब्राह्मण नेता नहीं बना मुख्यमंत्री

प्रियंका गांधी तीन दिन से दिल्ली छोड़ यूपी में पुलिस की हिरासत में है। हाउस अरेस्ट के बावजूद उनकी आक्रामकता बरक़रार नज़र आ रही है। ट्विटर पर प्रियंका योगी सरकार और पीएम मोदी पर जमकर निशाना साध रही है। ऐसे में आने वाले चुनाव में अगर कांग्रेस का यहीं रूप जारी रहा तो योगी सरकार के साथ सपा और बसपा को बड़ा झटका लग सकता है। अब प्रियंका गांधी को रिहा कर दिया है लेकिन वो अपने भाई राहुल गांधी का इंतज़ार कर रही है, राहुल गांधी के साथ वो लखीमपुर खीरी जाकर पीड़ित परिवार से मिलेगी।

ये भी पढ़ें: लखीमपुर खीरी हिंसा! प्रियंका गांधी का दिखा रौद्र रूप, पुलिस से कहा- हिम्मत है तो छूकर दिखाओ

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

iOS: http://apple.co/2ZeQjTt 

No comments

leave a comment