Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Monday / January 24.
Homeडिफेंसआत्मनिर्भरता की ओर बड़ा कदम, भारत में बनेगी AK-203 असॉल्ट राइफल, रूसी रक्षा मंत्री के साथ फाइनल हुई डील

आत्मनिर्भरता की ओर बड़ा कदम, भारत में बनेगी AK-203 असॉल्ट राइफल, रूसी रक्षा मंत्री के साथ फाइनल हुई डील

Putin Visit To India: Big step towards self-reliance, AK-203 assault rifle to be made in India now, final deal with Russian Defence Minister
Share Now

Putin Visit To India: भारत सरकार ने आत्मनिर्भरता को बढ़ावा देने के लिया एक बड़ा कदम उठाया है. आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने रूस के रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगु से मुलाकात की. यह बैठक दिल्ली में हुई, दिल्ली के सुषमा स्वराज भवन में बैठक का आयोजन किया गया. इस बैठक में कई अहम मुद्दों पर चर्चा हुई. खबरों की मानें तो जिन अहम मुद्दों पर चर्चा की गई है. उनमें मिसाइलों की सप्लाई सुनिश्चित करना, भारत में S400 मिलाइल की समय से सप्लाई, इसके साथ ही रूस द्वारा मदद को प्रभावी तरीके से पहुंचाना आदि शामिल हैं.

AK-203 असॉल्ट राइफल डील

इसके अलावा, बैठक  में AK 203 असॉल्ट राइफल को अंतिम रूप देने को लेकर बातचीत की गई है. बैठक में राजनाथ सिंह और भारत-रूस राइफल्स प्राइवेट लिमिटेड के जरिए कुल 6,01,427 7.63×39 मिमी असॉल्ट राइफल्स AK-203 की खरीद के लिए डील शामिल है. भारत और रूस के बीच काफी अहम मानी जा रही है.

राजनाथ सिंह ने उठाया चीन का मुद्दा

इस मौके पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा राजनाथ सिंह ने चीन के अतिक्रमण की बात का मुद्दा उठाया. रूसी रक्षा मंत्री के साथ बैठक में राजनाथ सिंह ने भारत रूस के संबंधों पर चर्चा करते हुए कहा कि भारत और रूस के संबंध बहुपक्षवाद, वैश्विक शांति, समृद्धि, आपसी समझ और विश्वास में समान रुचि के आधार पर समय की कसौटी पर खरे उतरे हैं. गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि आज वार्षिक भारत-रूस शिखर सम्मेलन, एक बार फिर हमारे देशों के बीच विशेष रणनीतिक साझेदारी के जरूरी महत्व की ओर इशारा करता है.’

इसे भी पढ़े: नागालैंड फायरिंग पर अमित शाह का बड़ा बयान, कहा- गलत पहचान की वजह से चली गोली

पीएम मोदी और पुतिन

इसके साथ ही आज पीएम मोदी रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Putin Visit To India) से मुलाकात करेंगे. दोनों नेताओं के बीच आज शिखर वार्ता होने जा रही है. इस बैठक को दोनों देशों के रिश्तों के बीच काफी अहम माना जा रहा है. जिसमें रक्षा, व्यापार, निवेश, ऊर्जा, और तकनीक जैसे अहम क्षेत्रों के सहयोग और इन्हें मजबूत करने के लिए दोनों देशों के बीच कई ओर समझौतों पर चर्चा हो सकती है.

No comments

leave a comment