Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Thursday / September 29.
Homeन्यूजRajasthan Political Crisis: कब होगी सुलह! इस बार क्या होगी आर-पार की लड़ाई!

Rajasthan Political Crisis: कब होगी सुलह! इस बार क्या होगी आर-पार की लड़ाई!

Rajasthan Political Crisis
Share Now

Rajasthan Political Crisis: राजस्थान के सियासी घटनाक्रम की गूंज दिल्ली तक सुनाई देने लगी है। सभी की निगाहें गहलोत-पायलट गुट के वर्चस्व की लड़ाई (Rajasthan Political Crisis) पर टिकी हुई है। पिछले कुछ दिनों से निर्दलीय विधायकों और बसपा के विधायकों ने सचिन पायलट (Sachin Pilot) पर जमकर बयानबाज़ी की है। इस बयानबाज़ी से मामलें ने और तूल पकड़ा है। हाईकमान दोनों के बीच जल्द सुलह का रास्ता निकालने में लगा हुआ है।

सचिन पायलट ने संघर्ष और कड़ी मेहनत से प्रदेश में कांग्रेस की वापसी कराने में अहम भूमिका निभाई थी। राजनीति के जानकारों के अनुसार प्रदेश में सचिन पायलट की अनदेखी गहलोत सरकार को आने वाले समय में काफी महंगी पड़ सकती है। सचिन पायलट के खेमें में कुछ ऐसे विधायक शामिल है जो प्रदेश की राजनीति में बड़ा अहम स्थान रखते है।

sachin pilot poster

Sachin Pilot Poster

प्रदेश में बयानबाज़ी के बाद पोस्टर वार:

कुछ दिन पहले निर्दलीय विधायक रामकेश मीणा ने पायलट को एक जातीय नेता बताया था। उसके बाद पायलट खेमे के विधायकों ने रामकेश मीणा के खिलाफ मोर्चा खोला था। आपको बताते पायलट खेमे में जाट, राजपूत, मीणा और गुर्जर समाज से आने वाले विधायक शामिल है, जो प्रदेश की राजनीति में काफी समय से डटे हुए है। उनके साथ झुंझुनूं से कांग्रेस विधायक बृजेन्द्र ओला है। बृजेन्द्र ओला मोदी लहर में जब कांग्रेस प्रदेश में मात्र 21 सीटों पर सिमट गई थी तब भी बारी मतों से जीतकर आए थे।

यह भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर के नेताओं संग पीएम मोदी की बैठक में फिर उठा धारा 370 का मुद्दा

दोनों गुटों की खींचातानी के बीच अब पोस्टर वार भी देखने को मिल रहा है। दो दिन पहले पायलट कैंप के विधायक वेदप्रकाश सोलंकी के घर के बाहर सचिन पायलट के समर्थन में पोस्टर लगाए गए थे। अब पायलट के विधानसभा क्षेत्र टोंक में भी जगह-जगह बड़े-बड़े होर्डिंग्स लगे हुए है। इसमें पायलट आ रहा का स्लोगन लिखा हुआ है।

आपको बता दें इन पोस्टर में एक तरफ पायलट की तो वहीं दूसरी तरफ अकबर खान की फोटो लगी है। अकबर खान पायलट के समथक माने जाते है। अब इन दोनों बड़े नेताओं के बीच सुलह कब होती है ये तो आने वाले समय ही पता चल पाएगा।

Ashok Gehlot Sachin Pilot

गहलोत-पायलट ने साध रखी है चुप्पी:

पिछले कुछ दिनों से प्रदेश की राजनीति में कुछ ठीक नहीं चल रहा है। गहलोत-पायलट कैंप के विधायकों की तरफ से बयानबाज़ी के वार पलटवार का दौर चल रहा है। जिसमें निर्दलीय विधायक आग में घी डालने का काम कर रहे है। लेकिन इसमें सबसे खास बात है इन दोनों बड़े नेताओं ने इस मामलें को लेकर चुप्पी साध रखी है। लेकिन ये ख़ामोशी कब सियासी बवंडर में बदल जाए कुछ कहा नहीं जा सकता है।

यह भी पढ़ें: “कौन कर रहा है आपके नाम पर जालसाजी”

 

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

iOS: http://apple.co/2ZeQjTt 

Share

No comments

leave a comment