Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Saturday / January 22.
Homeनेचर एंड वाइल्ड लाइफRann Sarovar प्रोजेक्ट बनने के बाद अगरिया मजदूरों की स्थिति में कैसे होगा सुधार, जानें Jay sukh Bhai Patel से  

Rann Sarovar प्रोजेक्ट बनने के बाद अगरिया मजदूरों की स्थिति में कैसे होगा सुधार, जानें Jay sukh Bhai Patel से  

Share Now
Rann Sarovar project :  लिटिल रण ऑफ कच्छ में काम रहे 40 हजार अगरिया मजदूर विषम परिस्थितयों में बुनियादी सुविधाओं के बिना अपना जीवन बिताने को मजबूर हैं.रण सरोवर प्रोजेक्ट इन मजदूरों के लिए पक्के घरों के साथ- साथ बेहतर जिंदगी का विकल्प भी है.
जयसुख भाई पटेल का ये प्रोजेक्ट (Rann Sarovar project)अगरिया मजदूरों के लिए नमक की खेती के अलावा आजीविका कमाने के भी कई विकल्प खोलेगा. 100 रुपए से भी कम कमाने वाले इन मजदूरों की आय दोगुनी हो जाएगी.जयसुख भाई पटेल का ये प्रोजेक्ट इन अगरिया मजदूरों की जिंदगी को सुधारने में कैसे कारगार साबित होगा आइए जानते हैं.

जय सुख भाई ने इंटरव्यू के दौरान बताया कि गुजरात के लिटिल रण ऑफ कच्छ(little rann of kutch) में की खेती करने वाले अगरिया सबसे पिछड़े हुए हैं, नमक की खेती करने वाले लोगों की इनकम प्रतिदिन 100 रुपए से भी कम है. उन्होंने बताया कैसे अगरिया मजदूर 50 साल से बुनियादी सुविधाओं के बिना अपनी जिंदगी गुजार रहे हैं और नमक की खेती करने को मजबूर हैं. इस प्रोजेक्ट को अप्रूवल मिलने के बाद अगरिया मजदूरों की स्थितियों में होगा सुधार.साथ ही अगरिया लोगों के लिए आजीविका कमाने के लिए कई ऑप्शन खुलेंगे.

जय सुख भाई पटेल ने कहा कि रण सरोवर बनने से मत्स्य उद्योग भी बनेगा आजीविक का साधन. रण सरोवर बनने से अगरिया की प्रतिदिन की आय 600-700 रुपए हो जाएगी. जय सुख भाई पटेल ने इस प्रोजेक्ट की सरहाना करते हुए कई तरीकों से इसे गुजरात के लिए लाभकारी बताया. 

इसे भी पढ़े: क्या है Rann Sarovar की विशेषताएं? जयसुख भाई पटेल से जानिए

No comments

leave a comment