Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Sunday / September 25.
Homeन्यूजकेन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी का तंज, CM इसलिए दुखी हैं क्योंकि कब रहेंगे, कब जाएंगे इसका भरोसा नहीं

केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी का तंज, CM इसलिए दुखी हैं क्योंकि कब रहेंगे, कब जाएंगे इसका भरोसा नहीं

Nitin Gadkari
Share Now

बीजेपी बीते एक साल में जिस हिसाब से अलग-अलग राज्यों में मुख्यमंत्री बदल रही है, उसे देखकर विपक्षी नेता तो तंज कस ही रहे हैं, अब केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने भी कुछ ऐसा ही कह दिया है, जिसे लोग बीजेपी के सीएम फेस बदलने से जोड़कर देख रहे हैं.

राजस्थान में आयोजित एक कार्यक्रम में केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari ) ने कहा कि समस्या सबके सामने हैं. पार्टी में, पार्टी के बाहर और परिवार में समस्या है. समस्या किसके सामने नहीं है. जो विधायक हैं इसलिए दुखी है क्योंकि वो मंत्री नहीं बन पाए. मंत्री इसलिए दुखी थे क्योंकि उन्हें अच्छा डिपार्टमेंट नहीं मिला. जिन्हें अच्छा डिपार्टमेंट नहीं मिला वो इसलिए दुखी थे कि वो मुख्यमंत्री नहीं बन पाएंगे. जो मुख्यमंत्री बने वो इसलिए दुखी हैं क्योंकि कब रहेंगे कब जाएंगे इसका भरोसा नहीं.

पहले भी कई बार ऐसे बयान दे चुके हैं नितिन गडकरी

हालांकि ऐसा पहली बार नहीं है जब नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने पार्टी को लेकर अपनी राय व्यक्त की हो. इससे पहले भी कई बार नितिन गडकरी (Nitin Gadkari ) ऐसे बयान दे चुके हैं. बता दें कि बीजेपी शासित राज्यों में पिछले एक साल में यह पांचवी बार है जब सीएम बदले गए. भाजपा मुख्यमंत्री को उनका कार्यकाल समाप्त होने से पहले ही पद से हटा रही है. अभी गुजरात में विजय रुपाणी के इस्तीफे के बाद भूपेन्द्र पटेल को सीएम बनाया गया तो वहीं उत्तराखंड, कर्नाटक और असम में भी कुछ ऐसा ही हुआ. 

ये भी पढ़ें: भूपेंद्र पटेल ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, अमित शाह समेत कई बड़े नेता रहे शपथ ग्रहण समारोह में मौजूद

उत्तराखंड में दो बार बदले मुख्यमंत्री

इससे पहले त्रिवेंद्र सिंह रावत को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पद से हटा दिया गया. इसके बाद उनकी जगह तीरथ सिंह रावत ने ले ली. हालांकि, रावत भी मुख्यमंत्री के रूप में ज्यादा दिन नहीं रहे और 4 जुलाई को भाजपा ने उनकी जगह पुष्कर सिंह धामी को नियुक्त किया. उत्तराखंड में भी अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं.

कर्नाटक में बदला मुख्यमंत्री

कर्नाटक में तत्कालीन मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा को 26 जुलाई को सीएम पद से इस्तीफा देना पड़ा था. कर्नाटक में बीजेपी सरकार को अभी 2 साल पूरे हुए थे और येदियुरप्पा को सीएम की कुर्सी खाली करनी पड़ी थी. 2018 के विधानसभा चुनाव के बाद राज्य में कांग्रेस-जेडीएस की सरकार बनी थी, लेकिन यह सरकार केवल एक साल ही शासन कर सकी और फिर भाजपा ने बीएस येदियुरप्पा के नेतृत्व में अपनी सरकार बनाई. हालांकि, येदियुरप्पा के बाद, भाजपा ने राज्य का नेतृत्व बसवराज बोम्मई को सौंप दिया, जो अब कर्नाटक के मुख्यमंत्री हैं.

असम में हिमंत बिस्वा सरमा को बनाया सीएम

BJP ने 2016 का असम विधानसभा चुनाव सर्बानंद सोनोवाल के नेतृत्व में लड़ा था. उस समय वे केंद्रीय मंत्री थे. फिर उन्हें मुख्यमंत्री के रूप में असम भेजा गया. असम में पहली बार बीजेपी ने अपनी सरकार बनाई है. सोनोवाल पांच साल तक मुख्यमंत्री रहे. फिर भी, पार्टी ने 2021 के चुनावों में सोनोवाल को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार नहीं बनाया. फिलहाल हिमंत बिस्वा शर्मा असम के मुख्यमंत्री हैं.

No comments

leave a comment