Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Tuesday / November 30.
Homeन्यूजसब्यसाची ने वापस लिया विज्ञापन, MP के गृहमंत्री ने दिया था 24 घंटे का अल्टीमेटम

सब्यसाची ने वापस लिया विज्ञापन, MP के गृहमंत्री ने दिया था 24 घंटे का अल्टीमेटम

Sabyasachi
Share Now

दूसरी ब्रांड्स की तरह हाल ही में मशहुर फैशन ब्रांड सब्यसाची भी विवादों में आई. प्रसिद्ध डिजाइनर सब्यसाची मुखर्जी ने अभी कुछ दिनों पहले ही अपना न्यू ज्वैलरी कलेक्शन ‘इंटीमेट फाइन ज्वैलरी’ लॉन्च किया था. इसके बाद फैब इंडिया और डाबर की तरह ही सब्यसाची को भी ट्रोल्स का सामना करना पड़ा और ब्रांड विवादों में आई. इतना ही नहीं पर विज्ञापन के बाद मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने तो एड हटाने के लिए सब्यसाची को 24 घंटे का अल्टीमेटम दे दिया.

विज्ञापन में क्या था?

दरअसल ब्रांड ने हाल ही में एक एड बहार निकाला था जिसमें उन्होंने अपना न्यू ज्वैलरी कलेक्शन ‘इंटीमेट फाइन ज्वैलरी’ लॉन्च किया था. इस एड में मॉडल्स मंगलसूत्र पहने नजर आई थी. लेकिन बात बिगड़ी इस वजह से कि मॉडल्स ने लॉन्जरी पहनी थी. साथ ही उन्होंने मंगलसूत्र पहना और साथ में शर्टलेस मेल मॉडल्स भी थे. ट्रोल्स का कहना था कि विज्ञापन अश्लील है.

सब्यसाची को गृहमंत्री से मिला अल्टीमेटम

Sabyasachi

इस एड के बाद मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने ब्रांड को इस विज्ञापन को हटाने के लिए 24 घंटे का अल्टीमेटम दे दिया था. उन्होंने विज्ञापन को ‘आपत्तिजनक और अश्लील’ बताया जिसके बाद सब्यसाची ने रविवार को इस एड को हटा दिया. नरोत्तम मिश्रा ने अपने ट्वीटर पर वीडियो शेयर किया. वीडियो में उन्होंने बताया कि सब्यसाची ने विज्ञापन हटा दिया है लेकिन अगर अगली बार ऐसा हुआ तो चेतावनी नहीं दी जाएगी बल्कि सीधे कार्रवाई होगी.

सब्यासाची ने ले लिया विज्ञापन वापस

आपको बता दें कि इतने ट्रोल्स, विवादों और अल्टीमेटम के बाद सब्यसाची ने अपना विज्ञापन वापस ले लिया है. 31 अक्टूबर, रविवार के दिन सब्यसाची ने ये एड हटाया. साथ ही उन्होंने बयान जारी किया. उस बयान में सब्यसाची ने कहा कि विज्ञापन से एक वर्ग को पहुंची पीड़ा पर उन्हें गहरा दुख है. सब्यसाची ने लिखा, ‘धरोहर और संस्कृति पर चर्चा में मंगलसूत्र अभियान का उद्देश्य समावेशिता और सशक्तीकरण पर चर्चा करना था. इस अभियान का उद्देश्य उत्सव मनाना था और हमें इस बात का गहरा दुख है कि इससे हमारे समाज के एक वर्ग को कष्ट पहुंचा है. इसलिए हमने इस अभियान को वापस लेने का फैसला लिया हैं.’

सोशल मीडियो पर ऐसे हुए ट्रोल

सब्यसाची के इस विज्ञापन के बाद सोशल मीडिया पर ब्रांड काफी ट्रोल हुई. लोगों ने नाराजगी भी जताई और आलोचना भी की. कुछ टोलर्स ने तो यह भी कहा कि ये ज्वैलरी का एड है या लॉन्जरी का. लोगों ने एड को लेकर तीखी प्रतिक्रिया दी.

ये भी पढ़ें: कोरोनाकाल में देश में हर दिन 31 बच्चों ने की खुदकुशी, NCRB की रिपोर्ट में खुलासा

No comments

leave a comment