Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Tuesday / November 30.
Homeन्यूज‘समाजवादी सुगंध’ से महकेगी UP की चुनावी फिजा, पूर्व CM अखिलेश ने लॉन्च किया ‘समाजवादी परफ्यूम’

‘समाजवादी सुगंध’ से महकेगी UP की चुनावी फिजा, पूर्व CM अखिलेश ने लॉन्च किया ‘समाजवादी परफ्यूम’

Samajwadi Perfume
Share Now

उत्तर प्रदेश में अगले साल विधानसभा चुनाव (UP Election 2022) होने वाले हैं, जिसे लेकर राजनीतिक पार्टियों की तैयारियां जोरों पर है. इसी कड़ी में उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अब समाजवादी इत्र (Samajwadi Perfume) लॉन्च किया है. इस इत्र की खासियत ये है कि इसमें 22 प्राकृतिक खुशबू का इस्तेमाल हुआ है, जिसकी खास वजह है.

ये है समाजवादी इत्र की खासियत

जानकारी के मुताबिक इस समाजवादी इत्र (Samajwadi Perfume) तैयार करने में दो वैज्ञानिकों को चार महीने का समय लगा. इसकी खास बात ये है कि कश्मीर से कन्याकुमारी तक इस इत्र में 22 प्राकृतिक इत्र और कन्नौज की मिट्टी की खुशबू का इस्तेमाल किया गया है. समाजवादी पार्टी के एमएलसी (MLC) पुष्पराज जैन के मुताबिक जब आप इसका इस्तेमाल करेंगे तो समाजवाद की सुगंध, भाईचारा, प्रेम और सौहार्द महसूस होगा.

22 प्राकृतिक खुशबू मिलाने की ‘सियासी वजह’

समाजवादी इत्र में 22 प्राकृतिक खुशबू मिलाए जाने की वजह ये है कि 2022 में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. ऐसे में पुष्पराज जैन का कहना है कि 2022 के चुनाव में नफरत की आंधी जो फैली है, वह उसे खत्म करेगी. प्रेम और भाईचारा को माहौल बनेगा. इसके बाद एक और खुशबू की तैयारी हो रही है, जिसमें 24 प्राकृतिक खुशबू का इस्तेमाल होगा, वह पूरे देश की नफरत की राजनीति को खत्म करेगा. यह पूरे प्रदेश में फैलेगा और लोगों में भाईचारा बढ़ेगा.

Samajwadi Perfume

Image Courtesy: Google.com

ये भी पढ़ें: छोटे दलों के भरोसे अखिलेश यादव, इस बार देंगे भाजपा को कड़ी टक्कर!

‘खुशबू बदल पाएं या नहीं रंग जरूर बदल देंगे’

इसे लेकर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने कहा कि मुझे खुशी है कि समाजवादी पार्टी के एमएलसी के प्रयास से यह समाजवादी इत्र बनाई है. रंग भी लाल-हरा रखा है आपने, अगर कहीं दूसरी जगह चली जाए ये बोतल तो खुशबू बदल पाएं या नहीं लेकिन रंग जरूर बदल देंगे. वह जान जाएंगे कि कौन आने वाला है. बीजेपी ने बीते साढ़े चार साल में उत्तर प्रदेश को बर्बाद कर दिया है. व्यापारियों, किसान और छात्र-नौजवानों ने आत्महत्या की है. यह सरकार बड़े उद्योगपतियों के लिए है.

No comments

leave a comment