Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Wednesday / October 5.
HomeकानूनSection 144: क्या होती है, कौन लागू करता है से लेकर जानें इसके बारे में सबकुछ

Section 144: क्या होती है, कौन लागू करता है से लेकर जानें इसके बारे में सबकुछ

section 144
Share Now

सीधे शब्दों में कहें तो धारा 144 का मुख्य उद्देश्य लोगों के समूह को एक जगह पर इकठ्ठा होने से रोकना है और सरकार इसका इस्तेमाल तब करती है जब लोगों के इकट्ठा होने से कोई खतरा हो सकता है.

क्या होती है धारा 144?

अगर कानूनी भाषा में बात करें तो criminal procedure code की धारा 144 का इस्तेमाल शांति कायम करने या किसी आपात स्थिति से बचने के लिए किया जाता है. सरकार को अगर किसी तरह के सुरक्षा, स्वास्थ्य संबंधित खतरे या दंगे की आशंका हो तो ऐसे में धारा 144 लागू की जाती है. जिस इलाके में ये धारा लागू की जाती है वहां 5 या उससे ज्यादा लोगों का समूह इकट्ठा नहीं हो सकता.

इस धारा को लागू करने के लिए जिलाधिकारी एक नोटिफिकेशन जारी करता है और इसके लागू होते ही आमजनों तक इंटरनेट सेवा की पहुंच को भी बाधित कर दिया जाता है. जिस इलाके में ये धारा लागू कर दी जाती है वहां हथियार ले जाने पर भी पाबंदी होती है.

कितने समय के लिए की जा सकती है लागू

अब बात आती है कि ये धारा कितने समय तक के लिए लागू की जा सकती है. तो आपको बता दें कि धारा 144 को 2 महीने से ज्यादा समय के लिए नहीं लगाया जा सकता है. लेकिन अगर किसी परिस्थिति में राज्य सरकार को लगता है कि लोगों के जीवन को खतरा टालने या किसी दंगे को टालने के लिए इसकी जरुरत है तो इसकी अवधि को बढ़ाया जा सकता है. लेकिन इस परिस्थिति में सरकार धारा 144 लागू करने की तारीख से 6 महीने से ज्यादा समय तक के लिए नहीं बढ़ा सकती.

अब अगर बात करें कि इसकी शरुआत से कहां से हुई. आपको बता दें कि इस धारा का इतिहास ब्रिटिश राज के समय का है. 1861 में ब्रिटिश राज में पहली बार इसका इस्तेमाल किया गया था, और इसके बाद देश की आजादी की लड़ाई के दौरान सभी राष्ट्रवादी विरोधों को रोकने के लिए ब्रिटिशर्स इसका इस्तेमाल एक हथियार की तरह करते थे.

ये भी पढ़ें: केन्द्रीय मंत्री की गिरफ्तारी को लेकर क्या कहता है कानून, राणे की गिरफ्तारी के बाद हो रही चर्चा

बात करें इस धारा के तहत दी जाने वाली सजा की तो गैर कानूनी तरीके से इकट्ठा होने वाले किसी भी व्यक्ति के खिलाफ दंगे में शामिल होने के लिए मामला दर्ज किया जा सकता है और इसके लिए ज्यादा से ज्यादा तीन साल की सजा सुनाई जा सकती है. धारा का उल्लंघन करने पर धारा 107 या 151 के तहत गिरफ्तारी की जाती है.

अक्सर लोगों को कर्फ्यू और धारा 144 में कंफ्यूजन रहती है. लोग कर्फ्यू और धारा 144 में अंतर नहीं कर पाते तो आपको बता दें कि कर्फ्यू और धारा 144 में बहुत अंतर होता है. कर्फ्यू बेहद ही खराब स्थिति में लगाया जाता है और इसके तहत लोगों को अपने घरों में ही रहने के लिए कहा जाता है. इस दौरान जरुरी सेवाओं को छोड़कर सभी चीजों को बंद कर दिया जाता है. जबकि धारा 144 के लागू होने पर ऐसा नहीं होता है.  

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

IOS: http://apple.co/2ZeQjTt

No comments

leave a comment