Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Tuesday / November 29.
Homeभक्तिशनि की साढेसाती और ढैय्या से बचने के लिए बेहद खास है नए साल का पहला दिन

शनि की साढेसाती और ढैय्या से बचने के लिए बेहद खास है नए साल का पहला दिन

Shani Sade Sati 2022
Share Now

Shani Sade Sati 2022: नए साल की शुरुआत में अब कुछ ही दिन बाकी रह गए है। लेकिन इस बार 2022 की शुरुआत शनिवार के साथ हो रही है। इसलिए यह साल शनि भक्तों के लिए बेहद खास रहने वाला है। क्योंकि शनिवार का दिन ज्योतिष शास्त्र के हिसाब से भी काफी उत्तम माना जाता है। शनिवार का दिन शनि भगवान को समर्पित बताया गया है। वैदिक ज्योतिष में शनि देव को न्याय के देवता के रूप में पहचान मिली हुई है। अर्थात शनि देव (Shani Sade Sati 2022) कर्म के हिसाब से लोगों पर अपनी दृष्टि बनाते है।

Shani Sade Sati 2022

1 जनवरी 2022 को बन रहा है ये खास योग:

नए साल की शुरुआत शनिवार के साथ होने से इस दिन शनि देव की पूजा का महत्व बेहद अधिक माना जा रहा है। 1 जनवरी यानी शनिवार को पौष मास की कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी और चतुर्दशी तिथि है। त्रयोदशी तिथि सुबह 7 बजकर 20 मिनट तक रहेगी। इसके बाद पौष मास की कृष्ण पक्ष चतुर्दशी तिथि शुरू हो जाएगी। इसके चलते इस दिन अमृत और सिद्ध दोनों योग एक साथ बन रहे है। इसके अलावा नए साल का यह दिन शिव पूजा के लिए भी बेहद खास है। 1 जनवरी 2022 को मास की शिवरात्रि भी पड़ रही है। मास की शिवरात्रि के दिन भगवान शिव की पूजा करने से सारे कष्ट दूर हो जाते है।

ये भी पढ़ें: यहां भगवान को प्रसाद के रूप में चढ़ाई जाती है चॉकलेट, एक बच्चे से जुड़ी है मंदिर की कहानी

शनि देव और भोलेनाथ की पूजा का संयोग:

शनिदेव और भगवान भोलेनाथ की महिमा पुरे जगत में सुनने को मिलती है। सनातन धर्म में किसी भी नए कार्य या नए साल की शुरुआत भगवान की पूजा के साथ ही होती है। इसके पीछे मान्यता है कि नए साल की शुरुआत में शुभ कार्य करने से पूरे साल शुभ फलों की प्राप्ति होती हैं। इसलिए बहुत से लोग मंदिर जाकर साल की शुरुआत करते हैं। इस बार 2022 के साल के पहले दिन शनि देव और भगवान भोलेनाथ की पूजा का संयोग बना हुआ है। इस दिन अगर दोनों ही देवताओं की पूजा की जाए तो आप पर इनकी कृपा बनी रहेगी और आपके सारे दुख, कष्ट पल में दूर होंगे।

इन राशियों पर चल रही है शनि की साढ़ेसाती:

बता दें शनि को सभी ग्रहों का राजा कहा जाता है। ज्योतिष ग्रहों में शनि ग्रह का सबसे महत्वपूर्ण स्थान है।शनि एक राशि में लगभग ढाई वर्ष तक गतिशील रहते हैं। इसका प्रभाव एक राशि पहले से एक राशि बाद तक पड़ता है। यही स्थिति साढ़ेसाती कहलाती है। धनु, मकर और कुंभ राशि पर शनि की साढ़ेसाती चल रही है। इन राशियों के जातक शनि देव को खुश करने के लिए नए साल पर भगवान शनि की पूजा जरूर करें।

ये भी पढ़ें: रविवार को बिल्कुल भी न करें ऐसे काम, वरना सूर्यदेव की नाराजगी से उठाना पड़ सकता है भारी नुकसान

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

iOS: http://apple.co/2ZeQjTt

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं। OTT India इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

No comments

leave a comment