Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Friday / August 12.
Homeभक्तिआज षटतिला एकादशी के दिन भूलकर भी न करें ये गलतियां वरना रुक जाएगी भगवान विष्णु की कृपा

आज षटतिला एकादशी के दिन भूलकर भी न करें ये गलतियां वरना रुक जाएगी भगवान विष्णु की कृपा

shattila ekadashi
Share Now

षटतिला एकादशी(Shattila Ekadashi 2022) का व्रत करने वाले श्रद्धालुओं पर भगवान विष्णु की कृपा हमेशा बनी रहती है. कहते हैं कि जो भी व्यक्ति सच्चे मन से माघ महीने की कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि को भगवान विष्णु(Lord Vishnu) का ध्यान करता है, विधि-विधान से उनकी पूजा-अर्चना करता है और एकादशी तिथि का व्रत रखता है, भगवान उसकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं. इस दिन तिल दान का विशेष महत्व है. आप जितना तिल दान करते हैं, वह स्वर्ण दान के बराबर पुण्य देता है.

मोक्ष की कामना करने वाले श्रद्धालु भी इस व्रत(Shattila Ekadashi Vrat) को रखते हैं लेकिन कुछ ऐसी गलतियां जाने-अनजाने में हो जाती हैं, जिससे व्रत का पूरा फल आपको नहीं मिल पाता. अगर आप भी षटतिला एकादशी का व्रत रख रहे हैं तो आपको इन गलतियों पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है. सबसे पहले इस व्रत के नियम की शुरुआत होती है, व्रत के एक दिन पहले से. व्रत के एक दिन पहले से ही तामसी और मांसाहारी भोजन त्याग दे. ऐसा करने से एक दिन पहले ही आपका अंत:करण शुद्ध हो जाता है और आप व्रत के लिए मानसिक और शारीरिक रूप से तैयार हो जाते हैं.

ekadashi

Image Courtesy: Google.om

इन बातों का रखें विशेष ख्याल

व्रत(Shattila Ekadashi 2022) करने वाले श्रद्धालु को सूर्योदय से पूर्व उठकर स्नानादि से निवृत हो जाना चाहिए. हिंदू धर्म के हर व्रत में ब्रह्माचर्य का पालन बेहद आवश्यक है. इस दिन काम, क्रोध, लोभ और मोह पर पूरी तरह से नियंत्रण रखे. किसी पर भी क्रोधित न हों. एकादशी के दिन बिस्तर पर नहीं बल्कि जमीन पर सोना चाहिए. अगर आप भी रोजाना पलंग पर सोते हैं तो इस दिन कोशिश करें कि जमीन पर सोएं. इसके अलावा इस दिन झूठ न बोलें और पान भी न खाएं. साथ ही चावल और बैंगन बिल्कुल न खाएं.

ये भी पढ़ें: इस एकादशी पर तिल दान करने का महत्व सोना दान करने के बराबर है, पढ़ें पूजा विधि और व्रत कथा

ऐसा करने से बनी रहेगी भगवान विष्णु की कृपा

इस व्रत(Shattila Ekadashi) के दौरान जो न करने वाली चीजें हैं, उसे जानने के बाद आपको ये भी जान लेना चाहिए कि इस व्रत में क्या करने से भगवान की कृपा बनी रहेगी. इस व्रत का नाम ही चूंकि षटतिला एकादशी है इसलिए तिल का इस्तेमाल अवश्य करें. सुबह पानी में तिल डालकर स्नान करें, तिल का हवन करें और भगवान विष्णु को तिल से बने पदार्थों का भोग लगाएं. साथ ही व्रत करने के बाद तिल का दान भी जरूर करें. ऐसा करने से भगवान विष्णु की कृपा आप पर बनी रहेगी और धन-धान्य, सुख-समृद्धि की प्राप्ति होगी.

No comments

leave a comment