Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Sunday / September 25.
Homeनेचर एंड वाइल्ड लाइफबुबी पक्षियों में माता-पिता की इंश्योरेंस पॉलिसी, एक बच्चा मर जाए तो दूसरा रह सके जिंदा!

बुबी पक्षियों में माता-पिता की इंश्योरेंस पॉलिसी, एक बच्चा मर जाए तो दूसरा रह सके जिंदा!

Siblicide
Share Now

पक्षियों की दुनिया हर किसी को हेरतअंगेज लगती है.  इनकी दुनिया अजीब रहस्यों से भरी पड़ी है. पक्षियों के अनेक रहस्यों में से एक Siblicide. Siblicide यह शब्द अपने आप में एक गहरा रहस्य समटे हुए है.  Siblicide को Suicide और Sibling दोनों शब्दों कोईन करके बनाया गया है. Siblicide का मतलब है अपने ही भाई-बहन या सबंधियों को मार देना.    

पक्षियों में देखने को मिलता एक खास प्रकार का बर्ताव है. आमतौर पर    सिब्लीसाइड पक्षियों के छोटे बच्चों में देखने को मिलता है. यह खास प्रकार का बिहेवियर कुछ पक्षियों में ज्यादातर देखा जा सकता है.  इस प्रकार का बर्ताव egrets, boobies,herons,pelicans,eagles, और owls जैसे पक्षियों में देखने को मिलता है. 

क्यां होता है Siblicide बर्ताव?

इस बर्ताव में herons,boobies,egrets,owls जैसे पक्षियों के बच्चें अपने भाई-बहन को मार देते है. बुबी पक्षियों के उदाहरण से समजे तो जब बुबी पक्षी अंडे से बाहर आते है तब वो उनमें जिंदा रहने की एक स्पर्धा होती है. हां जिंदा रहने की स्पर्धा.

यहाँ भी पढ़ें : आज़ाद भारत में विलुप्त होते घोराड(गोडावण) को कौन बचायेगा ?

बुबी जिस वातावरण में पलते-बढते है वहां बुबी माता-पिता बेहद कम खुराक मुहैया करा सकते है. उतने खुराक के जिसमें 2 में से एक बच्चें को ही पाल सके.  बुबी पक्षी 1 से 2 हप्ते के अंतराल में अंडे देते है. जिसमें पहले अंडे में से बच्चा निकल चुका होता है. दूसरा अंडा ऐसे ही होता है. जिसमें एक हप्ते बाद दूसरा बच्चां अंडे में से निकलता है.

Siblicide

Image Credit-Wikipedia

तो उसमें बड़ा वाला बच्चा दूसरे अपने छोटे भाई बहन को नेस्ट से बाहर धकेल देता है, या फिर उसे चोंच मार-मार कर जान से भी मार डालते है. बुबी के साथ दूसरे पक्षियों में यह बर्ताव देखा जा सकता है. काफी बार सिब्लीसाइड बर्ताव में देखा गया है कि बड़े बच्चे घोसलें से अंडे को नीचे गिरा देते है. जिससे उसका ही पालन-पोषण हो. बुबी पक्षियों के बड़े बच्चे अपने छोटे भाई-बहन को घोसलें से दूर कर देते है ताकी बुबी माता-पिता से इस बच्चे तक पहुंच न पाए. जिसके साथ बड़े बच्चे के जिंदा रहने के चांस बढ़ जाते है.

बुबी बर्ड्स से दूर होने के कारण माता-पिता उसे फिर से अपनाते नहीं क्योंकि संशाधन और खुराक की कमी उन्हें भी मालूम होती है. जिससे वो अपने बच्चे को मरने के लिए छौड देते है. बच्चा डिहाईड्रेशन या फिर किसी शिकार के हाथों मारा जाता है.

Siblicide

बुबी पक्षियों बेहद कम खुराक मुहैया कराने के कारण वो एक ही बच्चे को पाल के बड़ा कर सकते है. जिससे वो चाहकर भी इस Siblicide बर्ताव को रोक नहीं सकते. बुबी बर्ड्स जो अंडे देते है, उसमें 1 से 2 हप्ते का अंतराल होता हैं. जो बुबी का पहला अंडा होता है उसमें ज्यादा टेस्टोस्टोरोन की मात्रा होती हैं. जिससे पहले अंडे में से निकला बच्चा बेहद ही गुस्सैल और खतरनाक होता है. तो साथ में अति शक्तिशाली भी होता है.

बुबी पक्षियों में दूसरे अंडे में से निकले बच्चे को बड़ा बच्चा नहीं मारता तो बुबी माता-पिता छोटे बच्चे को मार डालते है. अब सवाल होगा क्यों मार देते है,पहला बच्चा नहीं मारता तो मा-बाप क्यों मार देते है. उसका सीधा जवाब है Insurance eggs hypothesis.

यहाँ भी पढ़ें : गिरि की गेको: देश की सबसे खूबसूरत छिपकली

Insurance eggs hypothesis का मतलब है कि अगर पहले अंडे में से बच्चा नहीं निकलता या फिर कोई शिकारी अंडा ले जाता है. तब दूसरा अंडा होता है जिसे बुबी माता-पिता बड़ा कर सकते है. यह एक प्रकार की इंश्योरेंस पॉलिसी है. जिसमें बुबी बर्ड्स रिस्क के सामने प्रोटेक्शन भी रखते है. यह प्रकृति का सीधा नियम है जो शक्तिशाली है वो ही जिंदा रहने के काबिल है.

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

iOS: http://apple.co/2ZeQjTt

No comments

leave a comment