Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Monday / May 16.
Homeसाइंस एंड इनोवेशनSpace Workout: अंतरिक्ष में भी करनी पड़ती है कसरत, वीडियो देखकर हैरान रह जाएंगे आप

Space Workout: अंतरिक्ष में भी करनी पड़ती है कसरत, वीडियो देखकर हैरान रह जाएंगे आप

Space Workout
Share Now

अक्सर आपने सुना होगा कि अंतरिक्ष में जाने वाले लोगों को ट्रेनिंग दी जाती है, उन्हें ऐसे तैयार किया जाता है कि वह अंतरिक्ष में रहकर खुद को स्वस्थ भी रख सकें और रिसर्च कर सकें, लेकिन क्या आपने सोचा है कि अंतरिक्ष में रहना कितना मुश्किल होता है, आखिर जिस अंतरिक्ष में गुरुत्वाकर्षण नाम की कोई चीज ही नहीं होती, जहां लोग ठीक से खड़े भी नहीं रह सकते, वहां एक्सरसाइज (Space Workout) कैसे संभव है, हो सकता है कि आपने यह नहीं सुना हो, ऐसे में आप वीडियो देखकर हैरत में पड़ जाएंगे कि आखिर ये कैसे संभव है.

अंतरिक्ष यात्री ने शेयर किया वीडियो 

दरअसल अंतरिक्ष यात्रियों की लिए वर्कआउट (Space Workout) काफी अहम है. फ्रांस के अंतरिक्ष यात्री थॉमस पेस्कोट ने एक स्पेस वर्कआउट का वीडियो ट्वीट किया है. जिस पर लोग मजेदार रिएक्शन दे रहे हैं. 41 सेकंड के वीडियो में थॉमस पेस्कोट वर्कआउट करते दिख रहे हैं. ऐसे में कई लोग ये सोच रहे हैं कि आखिर इसकी क्या जरूरत है. तो इसका आसान सा जवाब इंटरनेशनल स्पेस सेंटर में रिसर्च करने जाने वाले अंतरिक्ष यात्रियों की दिनचर्या से जुड़ा है.

इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन में रहते हैं अंतरिक्ष यात्री 

हम सबने बचपन में पढ़ा है कि अंतरिक्ष में पृथ्वी की तरह गुरुत्वाकर्षण नहीं होता. गुरुत्वाकर्षण बल का कमाल ये है कि जब भी हम कोई चीज ऊपर फेंकते हैं तो वह लौटकर वापस नीचे आ जाती है, लेकिन वहां ऐसा नहीं है. इसिलिए इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन को बनाया गया है, ताकि वहां रहकर अंतरिक्ष यात्री अंतरिक्ष के बारे में रिसर्च कर सकें. माइक्रो ग्रैविटी होने की वजह से अंतरिक्ष यात्रियों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है.

Space Workout

Image Courtesy: Twitter.com

ये भी पढ़ें: Space Station Life: अंतरिक्ष में जाने वाले कहां रहते हैं, कैसे रिसर्च करते हैं और वो जगह कैसी है, क्या जानते हैं आप

मांसपेशियां कमजोर होने का खतरा

हवा में रहकर भी अंतरिक्ष यात्री रोजाना दो घंटे एक्सरसाइज (Space Workout) करते हैं, ताकि उनकी मांसपेशियां कमजोर न हो. अंतरिक्ष में माइक्रो ग्रैविटी की वजह से ब्लड सर्कुलेशन समेत, हड्डियों पर असर पड़ता है. हालांकि इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन में इन बातों का खास ख्याल रखा जाता है कि अंतरिक्ष यात्रियों को कम से कम परेशानी हो, ताकि वो आसानी से रिसर्च कर सकें. आपको ये जानकर आश्चर्य होगा कि ये किसी स्टेशन की तरह स्थिर नहीं बल्कि पृथ्वी के चक्कर लगाते रहता है.

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

iOS: http://apple.co/2ZeQjTt   

No comments

leave a comment