Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Tuesday / November 29.
Homeडिफेंसभारत के स्‍वतंत्रता आंदोलन का प्रतीक सेलुलर जेल पहुंची ‘स्‍वर्णिम विजय वर्ष विजय ज्‍योति’

भारत के स्‍वतंत्रता आंदोलन का प्रतीक सेलुलर जेल पहुंची ‘स्‍वर्णिम विजय वर्ष विजय ज्‍योति’

Victory Flame at Cellular Jail
Share Now

PIB Delhi: सेलुलर जेल में स्वर्णिम विजय वर्ष विजय ज्योति को ले जाया गया है। अंडमान और निकोबार कमान ने 1971 के युद्ध में भारत की जीत की 50वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में सेलुलर जेल में कार्यक्रम आयोजित किया। आर्मी कंपोनेंट कमांडर ब्रिगेडियर राजीव नागयाल इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थे। पूर्व सैनिकों, सैन्य अधिकारियों और गणमान्य व्‍यक्तियों ने समारोह में हिस्‍सा लिया। 

Victory Flame at Cellular Jail

Victory Flame at Cellular Jail

पोर्ट ब्‍लेयर स्थित सेलुलर जेल में स्‍वर्णिम विजय वर्ष विजय ज्‍योति:-

वर्ष 1971 के युद्ध में भारत की जीत की 50वीं वर्षगांठ समारोह आयोजित करने के क्रम में अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह के पोर्ट ब्‍लेयर (Port Blair) स्थित सेलुलर जेल में स्‍वर्णिम विजय वर्ष विजय ज्‍योति लायी गयी। (Andaman & Nicobar) अंडमान एवं निकोबार कमान (ANC) ने सेलुलर जेल में विभिन्‍न कार्यक्रम आयोजित किये। इन कार्यक्रमों में संयुक्‍त सेनाओं के दस्‍ते द्वारा बैंड डिस्‍पले, एक प्रकाश एवं ध्‍वनि शो और 1971 युद्ध पर आधारित एक लघु फिल्‍म शामिल हैं।  

 

पूर्व सैनिक, सैन्य अधिकारी और गणमान्य व्यक्ति भी इस अवसर पर उपस्थित थे। आर्मी कंपोनेंट कमांडर ने मातृभूमि के विभिन्‍न हिस्‍सों से मिट्टी संग्रह की राष्‍ट्रीय पहल के हिस्‍से के रूप में सेलुलर जेल से मिट्टी का संग्रह किया।

आर्मी कंपोनेंट कमांडर ब्रिगेडियर राजीव नागयाल इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थे।

Brigadier Rajeev Nagyal

Army Component Commander Brigadier Rajeev Nagyal Chief Guest

स्‍वतंत्रता आंदोलन का प्रतीक है सेलुलर जेल:- (Cellular Jail) 

भारत के स्‍वतंत्रता आंदोलन का प्रतीक माना जाता है सेलुलर जेल। यह एक गौरवपूर्ण स्‍थान है। जेल को काला पानी के रूप में भी जाना जाता है, जेल का इस्‍तेमाल राजनीतिक कैदियों को दूरस्थ द्वीपसमूह में निर्वासित करने के लिए किया जाता था। स्वतंत्रता संग्राम के दौरान विनायक दामोदर सावरकर (Vinayak Damodar Savarkar), बटुकेश्वर दत्त (Batukeshwar Dutt), योगेन्द्र शुक्ला (Yogendra Shukla) और वी.ओ. चिदंबरम पिल्लई (V.O. Chidambaram Pillai) को यहां कैद किया गया था। आज यह सेलुलर जेल एक राष्ट्रीय स्मारक के रूप में प्रसिद्ध है। 

यहां पढ़ें: Swarnim Vijay Varsh Victory Flame: सेवानिवृत कैप्टन सुधीर कुमार के घर ले जायी गई ‘विजय ज्वाला’

स्वर्णिम विजय वर्ष समारोह के हिस्से के रूप में विजय ज्वाला को आज ANC मुख्यालय में नेताजी सुभाष चंद्र बोस द्वीप ले जाया गया, जहां नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने दिसंबर 1943 में राष्ट्रीय तिरंगा फहराया था। 

ब्रिटिश शासन के खिलाफ हमारे स्वतंत्रता संग्राम में एक महत्वपूर्ण क्षण था। 

देश दुनिया की खबरों को देखते रहें, पढ़ते रहें.. और OTT INDIA App डाउनलोड अवश्य करें.. स्वस्थ रहें..

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

iOS: http://apple.co/2ZeQjTt   

No comments

leave a comment