Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Thursday / September 29.
Homeन्यूजइस सीट से चुनाव लड़ सकती हैं ममता बनर्जी, TMC ने की जल्द चुनाव करवाने की अपील

इस सीट से चुनाव लड़ सकती हैं ममता बनर्जी, TMC ने की जल्द चुनाव करवाने की अपील

Mamta Banerjee
Share Now

पश्चिम बंगाल में बहुमत के साथ सत्ता में होने के बावजूद तृणमूल कांग्रेस की चिंताएं बढ़ती जा रही हैं. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को अगले 70 दिनों में किसी भी सीट से विधायक बनना अनिवार्य होगा, नहीं तो उन्हें मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ेगा. लेकिन, कोरोना संक्रमण के चलते अभी उपचुनाव (West Bengal Bypolls) की तारीखों का ऐलान नहीं किया गया है. तृणमूल कांग्रेस के कुछ सांसदों ने गुरुवार को चुनाव आयोग से मुलाकात की. वहीं इलेक्शन कमीशन से अपील की कि राज्य में जल्द से जल्द उपचुनाव कराए जाएं. ममता बनर्जी को 5 नवंबर तक विधानसभा सदस्य बनना है. बता दें कि ममता बनर्जी नंदीग्राम सीट से विधानसभा चुनाव में बीजेपी के शुभेंदु अधिकारी से हार गईं थीं.

टीएमसी प्रतिनिधिमंडल ने चुनाव आयोग से की अपील

तृणमूल कांग्रेस के पांच सांसदों का एक प्रतिनिधिमंडल चुनाव आयोग से मिला. इनमें सौगत रॉय, सजदा अहमद, मोहुआ मोइत्रा, राज्यसभा सदस्य सुखेंदु शेखर रे और नवनिर्वाचित सदस्य जवाहर सरकार शामिल रहे. तृणमूल कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल ने चुनाव आयोग को बताया कि राज्य में कोविड-19 की स्थिति नियंत्रण में है, इसलिए जल्द से जल्द उपचुनाव कराएं. ऐसा इसलिए क्योंकि त्योहारी सीजन में चुनाव कराने में दिक्कत हो सकती है.

Mamata Banerjee

Image Courtesy: PTI

इस सीट से चुनाव लड़ सकती हैं ममता

कहा जा रहा है कि चुनाव आयोग इस मामले पर बंगाल के मुख्य सचिव और सीईओ से चर्चा कर सकता है. सूत्रों के मुताबिक कोरोना की स्थिति नियंत्रण में आने के बाद ही चुनाव कराया जाएगा. पश्चिम बंगाल में सात सीटों- जंगीपुर, शमशेरगंज, खरधा, भवानीपुर, दिनहाटा, शांतिपुर और गोशाबा पर उपचुनाव (West Bengal Bypolls) होने हैं. तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के सूत्रों के अनुसार, नंदीग्राम सीट से भाजपा के शुभेंदु अधिकारी से हारने वाली ममता भवानीपुर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ सकते हैं.

बंगाल में कोविड नियंत्रण में है : ममता

ममता बनर्जी ने सोमवार को कहा कि बंगाल में कोविड-19 की स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में है. इसलिए चुनाव आयोग को तत्काल चुनाव कराना चाहिए. उन्होंने कहा कि चुनाव हुए चार महीने हो चुके हैं और अब कोविड-19 की स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में है. चुनाव आयोग ने राजनीतिक दलों से विचार मांगे. ममता ने राज्य सचिवालय से कहा कि मुझे लगता है कि चुनाव आयोग को उपचुनाव की तारीखों की तुरंत घोषणा करनी चाहिए क्योंकि हमें लोगों के लोकतांत्रिक अधिकारों में कटौती नहीं करनी चाहिए.

ये भी पढ़ें: सोनू सूद ने CM केजरीवाल से की मुलाकात, इस अभियान के होंगे ब्रांड एंबेसडर

छह महीने में विधानसभा सदस्य बनना जरूरी

 ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस ने लगातार तीसरी बार पूर्ण बहुमत के साथ बंगाल में सरकार बनाई है, लेकिन ममता बनर्जी खुद नंदीग्राम सीट भाजपा नेता और उनके पूर्व सहयोगी शुभेंदु अधिकारी से हार गईं. एक नियम के रूप में, एक व्यक्ति जो विधान सभा या विधान परिषद (राज्यों में) का सदस्य नहीं है, उसे मुख्यमंत्री या मंत्री बनाया जा सकता है, लेकिन उन्हें मुख्यमंत्री बनने के छह महीने के भीतर विधायक के रूप में चुना जाना चाहिए.

कोर्ट में नंदीग्राम का मामला

नंदीग्राम में शुभेंदु अधिकारी से करीब 2,000 वोटों से हारने के बाद ममता बनर्जी ने इस सीट पर चुनाव परिणाम को अदालत में चुनौती दी है. कोर्ट में उनकी अगली सुनवाई 15 नवंबर को होगी. यानी नंदीग्राम पर कोर्ट का फैसला आने से पहले ममता बनर्जी को दूसरी सीट से जीतना होगा, नहीं तो उन्हें मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना होगा.

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

IOS: http://apple.co/2ZeQjTt

No comments

leave a comment