Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Wednesday / October 27.
Homeलाइफस्टाइलMenopause की समस्या को कम करने के लिए लाइफस्टाइल में करें ये बदलाव

Menopause की समस्या को कम करने के लिए लाइफस्टाइल में करें ये बदलाव

menopause
Share Now

मेनोपॉज महिलाओं के लिए ये वो समय होता है जब उन्हें पीरियड्स होना बंद हो जाते हैं. आमतौर पर मेनोपॉज 40 की उम्र के बाद होता है लेकिन कई महिलाओं में ये पहले ही हो जाता है. महिलाओं में मेनोपॉज के बाद कई तरह के बदलाव होते हैं और उन्हें कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है. 40 की उम्र के बाद अगर महिलाओं को 10 से 12 महीने पीरियड्स ना आए तो ये मेनोपॉज कहलाता है.

हालांकि 40 साल की उम्र के बाद महिलाओं में ये एक नेचुरल प्रोसेस होता है इसलिए इससे परेशान होने की जरुरत नहीं है. लेकिन नेचुरल प्रोसेस होने के बावजूद भी महिलाओं को कई तरह की परेशानी होती है और इससे उनकी डेली लाइफ भी अफेक्ट होती है. चलिए आज हम आपको बताते हैं मेनोपॉज के सिम्पटम्स और इससे होने वाली तकलीफ को कम करने के लिए महिलाओं को अपने लाइफस्टाइल में कौन-से बदलाव करने चाहिए.

मेनोपॉज के लक्षण

सबसे पहले बात करते हैं मेनोपॉज के सिम्पटम्स की. ऐसा होने पर महिलाओं के बिहेवियर में कौन-से बदलाव होते हैं. मूड स्विंग, बाल झड़ना, नींद पूरी ना होना या नींद ही ना आना, बहुत ज्यादा पसीना आना और खाने की बहुत ज्यादा क्रेविंग होना मेनोपॉज के बाद महिलाओं में होने वाले बदलाव शामिल है. अब बात आती है कि मेनोपॉज के बाद कौन सी हेबिट्स के जरिए तकलीफ को कम किया जा सकता है. सबसे पहले तो मेनोपॉज के बाद अपनी डाइट पर खास ध्यान देना चाहिए.

बैलेंस्ड डाइट 

मेनोपॉज के बाद होने वाले बदलावों को बैलेंस डाइट सपोर्ट करेगी. इसके अलावा अपनी डाइट में सीजनल, ट्रेडिशनल और लोकल चीजों को शामिल करें और इस दौरान किसी तरह की कोई डाइटिंग, इंटरमिटेंट फास्टिंग करने से भी परहेज करना चाहिए. बैलेंस्ड और न्यूट्रिशंस से भरपूर फूड खाने से आप बेहतर तो फील करेंगी ही साथ ही ये आपके वजन को भी कम करने में मदद करेगा.

ये भी पढ़ें: नाक के ओपन पोर्स से हैं परेशान तो ऐसे पाएं छुटकारा, आजमाएं ये टिप्स

एक न्यूट्रिशनिस्ट के अनुसार मेनोपॉज की तकलीफ को कम करने के लिए दिन में 20 मिनट का नैप लेना चाहिए और रात को भी साढ़े नौ बजे से 11 बजे की बीच सो जाना चाहिए. मेनोपॉज में पूरी तरह से आराम करना बहुत जरुरी होता है और इस दौरान किसी भी तरह की हैवी एक्सरसाइज भी ना करने की सलाह दी जाती है. मेनोपॉज में अक्सर देखा जाता है कि महिलाओं में कैल्शियम की कमी हो जाती है. ऐसे में इस समस्या से बचने के लिए भरपूर मात्रा में कैल्शियम युक्त चीजें खाएं और किसी भी तरह का सप्लीमेंट लेने से पहले डॉक्टर से सलाह लें.

एक्सरसाइज करना जरुरी

एक्सरसाइज करने से शरीर में मजूबती, स्टैमिना और फ्लेक्सबिलिटी बढ़ती है. इसके साथ योगा और कार्डियो एक्सरसाइज को हफ्ते में दो दिन करना चाहिए. उन्होंने कहा कि हर महिला को कम से कम आधे घंटे एक्सरसाइज करना चाहिए. अगर एक्सरसाइज करना पसंद नहीं तो योगा करें.

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

 

 

No comments

leave a comment