Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Monday / January 17.
Homeभक्तिदुनिया का पहला मंदिर जहां आधी रात को मूर्तियां करती हैं एक दूसरे से बात, रहस्य जानकर रह जाएंगे हैरान

दुनिया का पहला मंदिर जहां आधी रात को मूर्तियां करती हैं एक दूसरे से बात, रहस्य जानकर रह जाएंगे हैरान

tripur sundari mandir
Share Now

Tripur Sundari Mandir: दुनिया में यूं तो कईं मंदिर(Temple)  हैं और उनके अलग-अलग रहस्य हैं. लेकिन इस वैज्ञानिक युग में अगर आपको कोई कहे कि मूर्तियां भी आपस में एक दूसरे बात करती हैं तो शायद सुनकर आपको आश्चर्य हो. हालांकि आश्चर्य की कोई बात नहीं होनी चाहिए क्योंकि देखा जाए तो विज्ञान का इतिहास कुछ हजार साल पुराना है, जबकि आध्यात्म का इतिहास लाखों साल पुराना है, ऐसे में विज्ञान(Science) अभी भी कई रहस्यों(Miracle) को सुलझा नहीं सका.

बिहार के बक्सर जिले में स्थित है मंदिर  

एक ऐसा ही रहस्य है बिहार(Bihar) के बक्सर(Buxar) जिले में स्थित त्रिपुर सुंदरी मंदिर(Tripur Sundari Mandir) में स्थित मूर्तियां का आधी रात को बात करना. कहते हैं कि वैज्ञानिकों की टीम भी उस मंदिर का दौरा कर चुकी है लेकिन अब तक ये पता नहीं लगा पाई कि आखिर इसकी वजह क्या है, आधी रात को ये आवाजें कहां से आती हैं. मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो मंदिर के पुजारी कई बार चौंक कर उठते हैं तो उन्हें लगता है कि कोई भक्त मंदिर के अंदर रह गया है.

tripur sundari mandir

Image Courtesy: Google.co,

मंदिर में इनकी प्रतिमाएं हैं स्थापित

ऐसा सोचकर जब वह मंदिर का दरवाजा खोलते हैं तो खुद ब खुद आवाजें बंद हो जाती हैं. अब ऐसे में ये रहस्य बना हुआ है कि क्या मंदिर की मूर्तियां आधी रात को आपस में बात(Idols Talk Each Other) करती हैं. मंदिर के इतिहास(Tripur Sundari Mandir History) की बात करें तो इसकी स्थापना एक प्रसिद्ध तांत्रिक ने की थी. मंदिर में 10 महाविद्याओं के साथ-साथ मां दक्षिणेश्वरी राज राजेश्वरी त्रिपुर सुंदरी, मां बगलामुखी, माता तारा, दत्तात्रेय भैरव, बटुक भैरव, अन्नपूर्णा भैरव, काल भैरव और मातंगी भैरव की प्रतिमा स्थापित है.

tripur sundari mandir

Image Courtesy: Google.co,

इस खास दिन आपस में बात करती हैं मूर्तियां

मंदिर(Raj Rajeshwari Tripur Sundari Temple) की खास बात ये है कि यहां मूर्तियां जो आपस में बात करती हैं, वह किसी खास व्यक्ति जैसे पुजारी वगैरह को सिर्फ सुनाई नहीं देती बल्कि पास की सड़क से गुजरने वाले हर व्यक्ति को भी सुनाई देती है. खास बात ये है कि मूर्तियां रोजाना नहीं बल्कि अमावस्या, पूर्णिमा और नवरात्रि की अष्टमी को आपस में बात करती हैं.

ये भी पढ़ें: हिंदुस्तान का इकलौता सूर्य मंदिर जिसके दरवाजे पूरब नहीं बल्कि पश्चिम की ओर हैं, औरगंजेब को भी खाली हाथ लौटना पड़ा था वापस

अब तक ये वैज्ञानिकों के लिए ये रहस्य अनसुलझा ही है, वहीं दूर-दूर से यहां तांत्रिक(Occultist) अनुष्ठान के लिए आते हैं. कहते हैं कि यहां दुर्गा सप्तशती का पाठ करने से हर मनोकामना पूरी होती है, वहीं तांत्रिकों को सिद्धि प्राप्त होती है.

Tags

Share

No comments

leave a comment