Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Sunday / September 25.
Homeन्यूज‘अफ़ग़ान को अपना भविष्य ख़ुद ही तय करना होगा’: President Joe Biden

‘अफ़ग़ान को अपना भविष्य ख़ुद ही तय करना होगा’: President Joe Biden

Joe Biden
Share Now

WASHINGTON (AP): अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी दो दिवसीय अमेरिकी-यात्रा पर निकले हैं। राष्ट्रपति ने व्हाइट हाउस का दौरा किया इस दौरान उन्होंने अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन (President Joe Biden) से मुलाकात भी की। इस मुलाकात में अमेरिकी प्रसासन द्वारा अपनी सेना को अफगानिस्तान से वापस बुलाने को लेकर चर्चा हुई। हाँलाकि अभी तब अमेरिकी सैनिक अफगानिस्तान में तैनात होकर सुरक्षा दे रही थी। 

ओवल ऑफ़िस में राष्ट्रपति अशरफग़नी से मुलाक़ात के बाद जो बाइडन (President Joe Biden) ने बताया कि,  “हमारे सैनिक ज़रूर अफ़ग़ानिस्तान छोड़ रहे हैं, लेकिन अफ़ग़ानिस्तान को हमारा समर्थन कभी ख़त्म नहीं होगा”। Afghan President Ashraf Ghani मेरे अच्छे मित्र हैं। 

“अफ़ग़ान लोगों को अपना भविष्य ख़ुद ही तय करना होगा”: अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन (President Joe Biden) 

राष्ट्रपति जो बाइडन ने बताया कि, अमेरिका अपनी सैनिक वापस बुला रहा है लेकिन अमेरिका का साथ हमेंशा रहेगा। अब अफ़ग़ान लोगों को अपना भविष्य ख़ुद ही तय करना होगा। यह अफ़ग़ानिस्तान को ही चुनना है कि उन्हें किस रास्ते जाना है। और लगातार अफ़गानिस्तान में चलने वाली हिंसा रुकनी चाहिए, वरना भविष्य में बड़ी परेशानियाँ आएंगी। लेकिन अमेरिका आगे भी अफ़ग़ानिस्तान का राजनैतिक और आर्थिक सहयोग करता रहेगा और अमेरिका-अफ़ग़ानिस्तान का संबंध कभी कमज़ोर नहीं होगा। 

President Joe Biden meets with Afghan President Ashraf Ghani

President Joe Biden meets with Afghan President Ashraf Ghani in the Oval Office of the White House in Washington, Friday, June 25, 2021. (AP Photo/Susan Walsh)

यहाँ पढ़ें: Mumbai-Pune-Mumbai via Vistadome: डेक्कन एक्सप्रेस के स्पेशल कोच की ये हैं विशेषताएं!

राष्ट्रपति अशरफ गनी ने इस निर्णय का सम्मान किया:

Afghan President Ashraf Ghani (अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी) ने अमेरिकी प्रशासन के अपनी सेनाएं वापस बुलाने के निर्णय का सम्मान किया है।  

Afghan President Ashraf Ghani

Afghan President Ashraf Ghani Image Source:(AP Photo/Susan Walsh)

राष्ट्रपति अशरफ ग़नी ने बताया कि, अफ़ग़ान सुरक्षा बलों ने उन छह ज़िलों को फिर से अपने क़ब्ज़े में ले लिया है, जिन पर तालिबान ने क़ब्ज़ा जमाने की कोशिश की थी। आप देखेंगे कि दृढ़ संकल्प के साथ, एकता के साथ और साझेदारी के साथ, हम सभी बाधाओं को पार कर लेंगे”। 

अमेरिका से अफगानियों को वापस भेजने का निर्णय: 

कुछ दिनों पहले ही अमेरिका के वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों का कहना था कि वो अपने सैनिकों को पूरी तरह वापस बुलाने से पहले उन हज़ारों अफ़ग़ान लोगों को अफ़गान वापस भेजने का निर्णय लिया जाएगा। वैसे इस सभी अफगानियों ने क़रीब दो दशक तक अमेरिकी सेना के साथ मिलकर काम किया। 

तालिबान का अफगानिस्तान कब्जा

तालिबान का अफगानिस्तान कब्जा Image Source: Reuters

जिनमें ऐसे लोगों की संख्या अमेरिका में करीब 50 हज़ार से ज्यादा हो सकती है जिन्होंने अमेरिकी सेना की किसी ना किसी तरह सहायता की। अधिकारियों का कहना है कि वर्षों तक अमेरिका के लिए काम करने वाले अफ़ग़ान दुभाषियों को तालिबान से जान का अत्यधिक ख़तरा है। और इसी डर की वजह से कम से कम 18,000 अफ़ग़ान लोग अब तक अमेरिकी वीज़ा के लिए आवेदन कर चुके हैं। 

तालिबान का अफगानिस्तान के कई जिलों पर कब्जा: 

हालांकि, अब अमेरिका और नेटों की सेनाएं 11 सितंबर तक अफ़ग़ानिस्तान से पूरी तरह निकल जायेंगी। और यह सब ऐसे समय में हो रहा है जब तालिबान ने अफगानिस्तान के कई जिलों पर कब्जा कर लिया है। तालिबान की तरफ से आक्रमक सैन्य अभियान लगातार जारी है। संयुक्त राष्ट्र ने तालिबान का अफगानिस्तान की ओर बढ़ते वर्चस्व को लेकर चिंता जताई है। 

देश दुनिया की खबरों को देखते रहें, पढ़ते रहें OTT INDI App पर…. 

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

iOS: http://apple.co/2ZeQjTt 

No comments

leave a comment