Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Wednesday / October 5.
Homeन्यूजयूपी के पूर्व CM कल्याण सिंह पंचतत्व में विलीन, अंतिम यात्रा में उमड़ा जनसैलाब

यूपी के पूर्व CM कल्याण सिंह पंचतत्व में विलीन, अंतिम यात्रा में उमड़ा जनसैलाब

Share Now

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह का अंतिम संस्कार आज बुलंदशहर जिले के नरौरा राज घाट पर किया गया. उनकी अंतिम यात्रा अहिल्याबाई से लेकर होल्कर स्टेडियम तक निकाली गई. यहां से उनकी यात्रा अतरौली स्थित उनके पैतृक गांव मढ़ौली पहुंची. जहां से यात्रा नरौरा घाट पहुंची और वहीं उनका अंतिम संस्कार किया गया.

तीन दिन का राजकीय शोक घोषित 

कल्याण सिंह के सम्मान में तीन दिन का राजकीय शोक घोषित किया गया है. बीजेपी ने भी अपने सारे कार्यक्रम टाल दिए हैं. बता दें कि पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह की अंतिम यात्रा ने करीब 50 किलोमीटर का सफर तय किया. जिसके बाद अहिल्याबाई स्टेडियम से पार्थिव शरीर सुबह करीब 9:00 बजे उनके पैतृक निवास अतरौली के गांव मढ़ौली लाया गया और वहां से नरौरा घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया गया.

शनिवार को कल्याण सिंह ने दुनिया को कहा अलविदा

शनिवार को उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम और राजस्थान के राज्यपाल रहे कल्याण सिंह (Kalyan Singh) दुनिया को अलविदा कह गए.  कल्याण सिंह के निधन  की खबर मिलने पर पीएम मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और योगी आदित्यनाथ सहित तमाम बड़े नेताओं ने दुःख जताया है. बताते चले कि 89 साल की उम्र में लखनऊ में शनिवार को कल्याण सिंह का निधन हो गया था. बीजेपी के वरिष्ठ नेता कल्याण सिंह 4 जुलाई से संजय गांधी पीजीआई, लखनऊ के आईसीयू में भर्ती थे. 

Image Courtesy: livemint.comवहीं यूपी सरकार ने  कल्याण सिंह को सम्मान देने के लिए कई बड़े फैसले लिए हैं. डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि अयोध्या में राम जन्मभूमि परिसर तक जाने वाली सड़क का नाम कल्याण सिंह मार्ग रखा जाएगा. इसके अलावा अलीगढ़ एयरपोर्ट का नाम भी कल्याण सिंह के नाम पर रखने का विचार चल रहा है. अयोध्या के अलावा लखनऊ, प्रयागराज, अलीगढ़, एटा, बुलंदशहर में भी एक-एक सड़क का नाम उनके नाम पर रखा जाने की बात कही गई है. 

ये भी पढ़ें: कल्याण सिंह, अलीगढ़ के अतरौली से यूपी के सीएम तक का सफरनामा

कल्याण सिंह का राजनीतिक सफर

यूपी के अतरौली गांव में 5 जनवरी, 1932 को कल्याण सिंह का जन्म हुआ. कल्याण सिंह ने बीए और एलएलबी की पढ़ाई की. राजनीतिक सफर में उन्हें दो बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे. इसके अलावा मोदी सरकार में उन्हें राजस्थान और हिमाचल प्रदेश का राज्यपाल भी बनाया गया था. साथ ही साथ राम मंदिर आंदोलन में उनकी अहम भूमिका रही है. 

 

No comments

leave a comment