Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Monday / October 25.
Homeन्यूजउपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने दिया जलंसरक्षण पर जोर, बोले-स्कूल सिलेबस में शामिल हों ऐसे विषय

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने दिया जलंसरक्षण पर जोर, बोले-स्कूल सिलेबस में शामिल हों ऐसे विषय

Water Conservation Naidu
Share Now

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने कहा है कि नदियों को पुनर्जीवित करने के लए राष्ट्रीय अभियान चलाए जाने की जरूरत है. पूर्वोत्तर के दौरे पर पहुंचे वेंकैया नायडू ने भी कहा कि स्कूल के सिलेबस में ऐसे विषयों को शामिल किए जाने की जरूरत है. बता दें कि बीते दिन पीएम मोदी ने जल संरक्षण को लेकर संदेश देते हुए कहा था कि पानी को प्रसाद की तरह इस्तेमाल करें.

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने आगे कहा कि हमें अपनी नदियों को तात्कालिकता की भावना से बचाना होगा. उन्होंने कहा कि इसके लिए राष्ट्रीय अभियान चलाए जाने की जरूरत है, उन्होंने राष्ट्रीय अभियान चलाए जाने का आह्वान किया. बता दें कि उपराष्ट्रपति पूर्वोत्तर दौरे पर हैं, जहां उन्होंने गुवाहाटी में ब्रह्मपुत्र नदी विरासत एवं सांस्कृतिक केन्द्र का उद्घाटन किया.

विरासत परिसर को लेकर नायडू ने कहा कि यह परिसर केवल पदयात्रियों के लिए है. यहां शांति बनाए रखने के लिए वाहनों के आवागमन पर पूरी तरह रोक है, अन्य विरासत केंद्रो पर भी ऐसा होना चाहिए, पैदल और साइकिल पथ का निर्माण करना चाहिए. इस विरासत केंद्र की तारीफ करते हुए नायडू ने कहा कि अन्य सांस्कृतिक स्थलों को भी हरा-भरा और स्वस्च्छ बनाए रखें.

औद्योगिकरण से बढ़ रहा नदियों में प्रदूषण
उपराष्ट्रपति ने आगे कहा कि बढ़ते शहरीकरण और औद्योगिकरण से नदियों में प्रदूषण की मात्रा बढ़ी है. पहले हमारे गांव और शहरों में कई तरह के जल निकाय हुआ करते थे लेकिन आधुनिकीकरण ने इको सिस्टम को पूरी तरह बर्बाद कर दिया है. अब हालत ये है कि जल निकाय या तो लुप्त हो गए हैं या उन पर अतिक्रमण हो गया है.

Water Conservation Naidu

Image Courtesy: Twitter.com

ये भी पढ़ें: पीएम मोदी ने Jal Jeevan Mission App किया लॉन्च, पानी को प्रसाद की तरह इस्तेमाल करने की सलाह

प्रकृति शिविर का करें आयोजन- उपराष्ट्रपति

स्कूल सिलेबस में जल संरक्षण जैसे विषयों को शामिल करने के महत्व का जिक्र करते हुए उपराष्ट्रपति ने कहा कि स्कूलों को कम उम्र से ही छात्रों के लिए प्रकृति शिविर लगाने चाहिए ताकि विशेष रूप से शहर में रहने वाले बच्चे प्राकृतिक सौंदर्य का आनंद उठा सकें.

No comments

leave a comment