Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Saturday / September 24.
Homeन्यूजमहंगा हुआ वोडाफोन-आइडिया: रिचार्ज प्लान में 61 फीसदी की बढ़ोतरी

महंगा हुआ वोडाफोन-आइडिया: रिचार्ज प्लान में 61 फीसदी की बढ़ोतरी

Vodafone-Idea
Share Now

महंगाई शौक से लेकर जीवन की जरूरतों तक हर चीज में बढ़ रही है. मोबाइल और डेटा पैक अब एक जरूरत बन गए हैं. कोरोना काल में हर कदम पर इसकी जरूरत है. वर्क फ्रॉम होम हो या स्टडी फ्रॉम होम, इसके अलावा लॉकडाउन में मोबाइल सबसे जरूरी चीजों में से एक बन गया है क्योंकि घर बैठे लोगों के बीच मोबाइल का इस्तेमाल बढ़ गया है. अपना नंबर चालू रखने के लिए मिनिमम प्रीपेड रिचार्ज (Mobile Tariff) करना भी अब और महंगा हो जाएगा. एयरटेल के बाद, टेलिकॉम कंपनी वोडाफोन आइडिया (Vodafone-Idea) ने अपने 28-दिवसीय एंट्री-लेवल प्रीपेड प्लान में 61 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी की है. ग्राहकों को अब 28 दिनों की वैधता यानि वैलिडिटी वाले पैक के लिए 49 रूपये के बजाय 79 रूपये का भुगतान करना होगा.

Vodafone-Idea ने 79 रूपये के प्लान को देशभर के ज्यादातर सर्किल्स में 28 दिनों की वैलिडिटी वाला एंट्री लेवल पैक बनाया है. आंध्र प्रदेश के कुछ सर्किल्स में अभी भी 28 दिनों की वैधता के साथ 49 रूपये का एंट्री लेवल पैक है, लेकिन इसे जल्द ही 79 रूपये के प्लान से बदल दिया जाएगा. 79 रूपये के पैक में ग्राहकों को ऐप के जरिए रिचार्ज करने पर 54 रूपये का टॉकटाइम और 200 एमबी डेटा मिल रहा है. इस बदलाव के बाद भी Vodafone Idea के पास सबसे ज्यादा 100 रूपये से कम के प्रीपेड पैक हैं. कंपनी 49 रूपये में 14 दिन की वैधता वाला पैक और 79 रूपये से कम के रिचार्ज के लिए 21 दिन की वैधता वाला पैक 65 रूपये में दे रही है.  

एंट्री लेवल पैक में नो एंट्री भेजने की सुविधा

79 रूपये का एंट्री प्लान ग्राहकों को एसएमएस भेजने की अनुमति नहीं देता है. Vodafone Idea 100 रूपये या उससे कम के कॉम्बो/वैलिडिटी पैक के साथ एसएमएस नहीं दे रहा है. जो ग्राहक एसएमएस सुविधा का लाभ उठाना चाहते हैं, उन्हें अनलिमिटेड कॉल के साथ पैक करना होगा. 28 दिनों की वैधता के साथ अनलिमिटेड पैक का न्यूनतम रिचार्ज 149 रूपये है. यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि वोडाफोन आइडिया के 50 प्रतिशत ग्राहक अभी भी 2G सेवाओं का उपयोग करते हैं, जो कम लागत वाले रिचार्ज पैक की पेशकश करते हैं.

कंपनी फ्लोर प्राइसिंग पर दांव लगा रही है

Vodafone पहले ही पोस्टपेड टैरिफ (Mobile Tariff) में बदलाव कर चुका है. विश्लेषकों का मानना ​​है कि राजस्व यानि रेवेन्यू बढ़ाने के लिए इसे और बढ़ाने की जरूरत है ताकि टेलिकॉम कंपनियां बाजार में खुद को बनाए रख सकें. वोडाफोन आइडिया के सीईओ के अनुसार, टैरिफ परिवर्तन सही दिशा में एक कदम है और इससे एवरेज रेवेन्यू पर यूजर (ARPU) में सुधार होगा, लेकिन यह बदलाव उद्योग के संकट को कम करने के लिए पर्याप्त नहीं है. उन्होंने कहा कि कंपनी फ्लोर प्राइसिंग के लिए नियामक के साथ लगातार बातचीत कर रही है. हालांकि, टेलिकॉम रेग्युलेटरी ऑथॉरिटी ऑफ इंड़िया (TRAI) का मानना ​​है कि फ्लोर प्राइसिंग मैकेनिज्म उपभोक्ता विरोधी है. वोडाफोन आइडिया वर्तमान में एक गंभीर वित्तीय संकट से जूझ रहा है और सुप्रीम कोर्ट द्वारा 9,000 करोड़ रूपये के बकाया एडजस्टेड ग्रॉस रेवेन्यू (AGR) के पुनर्मूल्यांकन की दरख्वास्त को खारिज करने के बाद इसकी परेशानी और बढ़ गई है.

ये भी पढ़ें: अफगानिस्तान में अफरातफरी का ड्राई फ्रूट्स पर असर, काजू-बादाम हुआ महंगा

कर्ज में डूबी देश की तीसरी सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी

देश की तीसरी सबसे बड़ी टेलिकॉम कंपनी, जो कर्ज में डूबी है, सरकार से राहत नहीं मिलने पर उसका वार्षिक नकदी प्रवाह 3.1 बिलियन या 23,000 करोड़ रुपये तक गिर सकता है. चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही के कमजोर वित्तीय नतीजों के पीछे कंपनी के ग्राहकों की लगातार घटती संख्या है. इसके अलावा VIL पर 1.90 लाख करोड़ रूपये का कर्ज है और पूंजी जुटाने की उसकी योजना काम नहीं कर रही है. अगर कंपनी बंद हो जाती है तो 27 करोड़ यूजर्स की मुश्किलें बढ़ जाएंगी. विशेषज्ञों के अनुसार, वोडाफोन आइडिया को बाजार में खुद को बनाए रखने के लिए प्रीपेड स्मार्टफोन उपयोगकर्ताओं के लिए टैरिफ में तत्काल वृद्धि की जरूरत है और इसी से वो बाजार में टिक पाएगा.

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

IOS: http://apple.co/2ZeQjTt

No comments

leave a comment