Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Wednesday / October 5.
Homeन्यूजWest Bengal Violence: बंगाल में रेप और हत्या के आरोपों की जांच करेगी CBI

West Bengal Violence: बंगाल में रेप और हत्या के आरोपों की जांच करेगी CBI

CBI
Share Now

कोलकाता उच्च न्यायालय ने गुरुवार को पश्चिम बंगाल (West Bengal Violence) में चुनाव के बाद कथित हिंसा की निष्पक्ष जांच की मांग वाली याचिका पर फैसला सुनाया. हाईकोर्ट ने चुनाव के बाद हुई हिंसा की सीबीआई जांच के आदेश दिए हैं. हालांकि कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि सिर्फ हत्या और रेप के आरोपों की जांच सीबीआई करेगी.अन्य सभी आरोपों की जांच एसआईटी करेगी.

 

अदालत ने कहा कि पश्चिम बंगाल के एक आईपीएस अधिकारी के नेतृत्व में एसआईटी (SIT) का गठन किया जाएगा और इस अदालत की निगरानी में जांच की जाएगी.कोर्ट ने कहा कि मामले की सुनवाई 24 अक्टूबर को होगी.

 

कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश राजेश बिंदल, न्यायमूर्ति आईपी मुखर्जी, न्यायमूर्ति हरीश टंडन, न्यायमूर्ति सौमेन सेन और न्यायमूर्ति सुब्रत तालुकदार की पीठ ने यह आदेश पारित किया. इससे पहले, एनएचआरसी अध्यक्ष को चुनाव के बाद की हिंसा के दौरान मानवाधिकारों के उल्लंघन के आरोपों की जांच के लिए एक जांच समिति गठित करने का आदेश दिया गया था. पैनल ने अपनी रिपोर्ट में ममता सरकार को दोषी पाया और सिफारिश की कि बलात्कार और हत्या मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी जाए. उन्होंने कहा कि मामले की सुनवाई राज्य के बाहर की जानी चाहिए.

 

पुलिस ने राजनीतिक हिंसा में 17 लोगों के मारे जाने की पुष्टि की है. हालांकि, भाजपा ने आरोप लगाया कि उसके और भी कार्यकर्ता मारे गए हैं. बीजेपी के मुताबिक, चुनाव के बाद हिंसा और लूट की 273 घटनाएं हुईं. बीजेपी का आरोप है कि अप्रैल-मई बंगाल चुनाव के बाद तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने बीजेपी कार्यकर्ताओं पर हमला किया, कई मारे गए. बीजेपी का आरोप है कि टीएमसी कार्यकर्ताओं ने महिलाओं को प्रताड़ित भी किया.

ये भी पढ़ें: अफगानिस्तान में फिर तालिबान राज, राष्ट्रपति अशरफ गनी ने छोड़ा मुल्क

3 अगस्त को हाईकोर्ट ने सुरक्षित रख लिया था आदेश 

उल्लेखनीय है कि 3 अगस्त को हाईकोर्ट ने मामले से जुड़ी एक जनहित याचिका में आदेश सुरक्षित रख लिया था. गैर-प्रकटीकरण याचिका पर सुनवाई कर रही पांच सदस्यीय पीठ के आदेश पर एनएचआरसी अध्यक्ष द्वारा गठित सात सदस्यीय समिति ने अपनी रिपोर्ट में सिफारिश की कि बलात्कार और बलात्कार जैसे गंभीर अपराधों की जांच सीबीआई को सौंप दी जाए. सिफारिश में यह भी कहा गया कि मामले की सुनवाई राज्य के बाहर की जानी चाहिए.

 

चुनाव परिणाम के बाद हुई थी हिंसा 

गौरतलब है कि कि इस साल 2 मई को समाप्त हुए पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में सीएम बनर्जी के नेतृत्व में टीएमसी ने शानदार जीत हासिल की. पार्टी ने 293 में से 213 सीटों पर जीत हासिल की. राज्य में हिंसा की खबरें सामने आने के बाद राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा सहित पार्टी के कई नेताओं ने इलाके का दौरा किया.

No comments

leave a comment