Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Tuesday / November 29.
Homeन्यूजआखिर, डेनमार्क क्यूँ बनाना चाहता है एक कृत्रिम द्वीप!

आखिर, डेनमार्क क्यूँ बनाना चाहता है एक कृत्रिम द्वीप!

Share Now

डेनमार्क (Demark) पूँजीवादी मुक्त बाज़ार अर्थव्यस्था वाला देश है। साथ ही एक कल्याणकारी राज्य भी है। डेनमार्क की राजधानी कोपनहैगन है। डेनमार्कवासियों का जीवन स्तर अत्यधिक ऊँचा है। डेनमार्क हमेंशा अपनी नई और अद्भुत तकनीकियों के लिए चर्चा में बना रहा है। इसी तरह एक बार फिर से डेनमार्क कृत्रिम द्वीप (Artificial Island) बनाने की खबर से काफी सुर्खियों में है। लेकिन यह डेनमार्क की ओर से अभी तक की सबसे अहम और महत्वपूर्ण परियोजना है। 

आइए जानते हैं, डेनमार्क की क्या है नई परियोजना? और क्यूँ बनाना चाहता है एक कृत्रिम द्वीप? इस योजना पर क्या है वैज्ञानिकों की राय? 

कृत्रिम द्वीप तैयार करने की यह है वजह: 

Copenhagen Port Image Credit: BBC

कोपनहैगन (Copenhagen): खबरों के मुताबिक, डेनमार्क (Denmark) की सरकार द्वारा कोपनहैगन बंदरगाह की ओर समुद्र के बढ़ते जल स्तर को रोकने के लिए एक कृत्रिम द्वीप तैयार करने की मंजूरी दे दी गई है। आको बात दें, कोपनहैगन, डेनमार्क देश की राजधानी है और सबसे बड़ा नगर भी है। जो कि जीलण्ड (Zealand) और अमागर (Amager)  नामक द्वीपों पर बसा हुआ है। कोपनहेगन नगर का जीवन स्तर विश्व में सर्वश्रेष्ठ माना जाता है। जो कि पूरी दुनिया में  पहला पर्यावरणीय अनुकूल नगरों में से एक है। 

कृत्रिम द्वीप का क्या है नाम?   

जैसे कि बताया गया है कि समुद्र के जल स्तर को नगर की ओर बढ़ने से रोकने के लिए एक कृत्रिम द्वीप तैयार किया जा रहा है। क्यूंकी जल के स्तर के बढ़ने से समुद्र के निकट रहवासियों के लिए खतरा बढ़ता नजर आ रहा है। इसलिए डेनमार्क ने यह परियोजना बनाई है। डेनमार्क द्वारा तैयार किए जाने वाले द्वीप नाम लिनेटहोम (Lynetteholm) रखा गया है। इस कृत्रिम द्वीप पर लगभग 35,000 लोग रेह सकेंगे।

देखें यह खस खबर: डोनाल्ड ट्रम्प ने  उठाए चीन पर सवाल 

डेनमार्क सरकार की परियोजना के तह इस विशाल द्वीप को रिंग रोड (Ring Road), टनल (Tunnel) और मेट्रो लाइन (Metro Line) के माध्यम से डेनमार्क की मुख्यभूमि से जोड़ा जाएगा।

यहाँ पढ़ें: पर्यावरण के साथ क्यूँ जोड़ा जाता है, सुंदरलाल बहुगुणा का नाम!

Artifical Island Lynetteholm’s Layout Image Credit: BBC

कृत्रिम द्वीप ‘लिनेटहोम’ (Artificial Island Lynetteholm) परियोजना की विशेषताएं:-  

  • डेनमार्क (Demark) का कृत्रिम द्वीप लिनेटहोम लगभग एक वर्ग मील यानि की 2.6 वर्ग किमी के विस्तार में फैला होगा।
  • ऐसा माना जा सकता है कि 400 फ़ुटबॉल मैदानों के बराबर द्वीप का आकार होगा।
  • इस विशाल द्वीप को रिंग रोड, टनल और मेट्रो लाइन के माध्यम से डेनमार्क की मुख्यभूमि से संलनग्न किया जाएगा। 
  • इस नए द्वीप के चारों ओर एक बांध व्यवस्था बनाई जाएगी।
  • जिसे समुद्र में बढ़ते जल स्तर औरतूफ़ानी लहरों से बंदरगाह सुरक्षित रहेगा। 
  • इस कृत्रिम द्वीप के निर्माण में तक़रीबन 80 मिलियन (8 करोड़) टन मिट्टी का उपयोग होगा। 
  •  डेनमार्क सरकार का कहना है कि इस परियोजना पर इस वर्ष के अंत तक काम शुरू हो जाएगा।
  • निर्धारित परियोजना के तहत वर्ष 2035 तक कृत्रिम द्वीप की नींव का अधिकांश हिस्‍सा तैयार हो जाएगा।
  • वर्ष 2070 तक कृत्रिम द्वीप लिनेटहोम पूरी तरह से बनकर तैयार हो जाएगा।

यहाँ पढ़ें: इन कारणों से है, इजरायल की एग्रीकल्चर तकनीकी विश्व प्रसिद्ध

कृत्रिम द्वीप (Artificial Island) के निर्माण पर क्या है वैज्ञानिकों की राय:-

Artificial Island Image Credit: Maritimebusinessworld

 वैज्ञानिकों ने डेनमार्क द्वारा निर्माण करने वाले कृत्रिम द्वीप को लेकर काफी चिंता जताई है। इसके साथ साथ वैज्ञानिक कोपनहैगन बंदरगाह पर बढ़ते जलस्तर के खतरे को देखते हुए चिंता भी व्यक्ति की है। द्वीप के निर्माण से भारी भरकम वाहक गुजरेंगें, जिस वजह से द्वीप पर रहने वालों के लिए पर्यावरण प्रदूषण का खतरा बढ़ेगा।

पर्यावरणविदों की चिंताओं को देखते हुए डैनिश रोड ट्रांसपोर्ट ऑफ गुड्स (Association for the Danish road transport of goods) के लिए बनी एसोसिएशन की प्रमुख कैरीना क्रिस्टिनसन ने कहा कि माल लाने, ले जाने के लिए परिवहन के दूसरे विकल्प भी मौजूद हैं, जो पर्यावरण को अधिक नुकसान नहीं पहुंचाते हैं। और सरकार के समक्ष यह भी विकल्‍प है। कैरीना का कहना है कि बिजली से चलने वाले ट्रक ना तो ध्‍वनि प्रदूषण करते हैं और ना ही कार्बन उत्सर्जन। और भविष्य को देखें तो यह एक अच्छा विकल्प साबित हो सकता है।

हर बार की तरह डेनमार्क फिर से पूरे विश्व में कुछ अलग और आधुनिक तकनीकी का उपयोग करके पूरे विश्व की खबरों की सुर्खियों में बना हुआ है। 

देश दुनिया की खबरों को देखते रहें, पढ़ते रहें.. और OTT INDIA App डाउनलोड अवश्य करें..  स्वस्थ रहें.. 

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

iOS: http://apple.co/2ZeQjTt 

No comments

leave a comment