Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Tuesday / October 4.
Homeकहानियांजानें क्या है G20 समूह, जिसकी बैठक में शामिल होने इटली पहुंचे हैं पीएम मोदी

जानें क्या है G20 समूह, जिसकी बैठक में शामिल होने इटली पहुंचे हैं पीएम मोदी

G20
Share Now

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Modi) इन दिनों इटली के दौरे पर हैं. इटली दौरे के दौरान पीएम मोदी जी-20 (G20 Summit) सम्मेलन में हिस्सा लेंगे. पीएम मोदी 29 अक्टूबर से 2 नवंबर तक विदेश दौरे पर रहेंगे. इस बीच 29 से 31 अक्टूबर तक रोम, इटली और वेटिकन सिटी का दौरा करेंगे तो वहीं ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन (Boris Johnson) के निमंत्रण पर 1 से 2 नवंबर तक ग्लासगो ब्रिटेन में रहेंगे.

इटली की अध्यक्षता में होगी जी-20 की बैठक

इस बार जी-20 की बैठक 30 और 31 अक्टूबर को आयोजित की जा रही है, जिसकी अध्यक्षता इटली करेगा. तो आखिर जानते हैं कि आखिर ये जी-20 क्या है. आसान भाषा में समझें तो जी-20 का अर्थ ग्रुप ऑफ 20 यानि 20 के समूह से है. यानि सीधी बात ये है कि इसमें 20 देश शामिल हैं, लेकिन इन्हें ऐसा कहने की बजाय 19 देश और यूरोपियन संघ (European Union) का समूह कहना ज्यादा उचित है. इसकी वजह ये है कि यूरोपियन यूनियन खुद 28 देशों का एक समूह है.

G20

Image Courtesy: Google.com

यूरोपियन यूनियन और ये देश हैं शामिल

अब उन 20 में कौन-कौन से देश शामिल हैं, ये जानना जरूरी है. अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, चीन, यूरोपियन यूनियन, फ्रांस, जर्मनी, इंडोनेशिया, इटली, जापान, मैक्सिको, रूस, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, दक्षिण कोरिया, तुर्की, यूनाइटेड किंगडम, संयुक्त राज्य अमेरिका और भारत शामिल है. इनके अलावा हर साल सम्मेलन में स्पेन को गैर स्थायी सदस्य के रूप में आमंत्रित किया जाता है.

कैसे हुआ जी-20 का गठन

खैर ये बात हुई जी-20 (G-20) क्या है और उनमें शामिल देशों की, अब समझते हैं कि आखिर जी-20 का गठन कैसे हुआ. इसके गठन को समझने के लिए पहले जी-7 को जानना जरूरी है. दरअसल साल 1975 में अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा समेत कई मुद्दों को लेकर दुनिया के 7 देशों (ब्रिटेन, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान और अमेरिका) ने समूह का गठन किया, जिसे जी-7 (G7) नाम दिया गया, इसकी भी बैठक हर साल होती है. इसी समूह या जी-7 (G7) समूह के सदस्य देशों ने साल 1999 में जी-20 का गठन किया. इसमें 19 देश और यूरोपिय संघ शामिल है. विकसित और विकासशील देशों की अर्थव्यवस्था के सहयोग से इसे स्थापित किया गया था.

G20

Image Courtesy: Google.com

जी-20 के बारे में खास बातें

साल 2008 के बाद से जी-20 देशों (G-20 Countries) के नेताओं की हर साल बैठक आयोजित की जाती है. जबकि इन राष्ट्रों के वित्त मंत्री और केन्द्रीय बैंक गवर्नर साल में दो बार बैठक करते हैं, जिसमें विश्व बैंक और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष के प्रतिनिधि भी हिस्सा लेते हैं. बड़ी बात ये है कि इसमें शामिल देश वैश्विक व्यापार का 75 प्रतिशत और विश्व की दो तिहाई जनसंख्या का प्रतिनिधित्व करते हैं. बीते साल मार्च 2020 में  सऊदी अरब में इसका आयोजन होना था लेकिन कोरोना महामारी के मद्देनजर एक वीडियो सम्मेलन आयोजित किया गया था, वहीं उससे पहले साल 2019 में जापान के ओसाका में जी-20 सम्मेलन (G-20 Osaka Summit) हुआ था और अब इस साल इटली के रोम में (G-20 Rome Summit) इसकी बैठक आयोजित की जा रही है.   

G20

Image Courtesy: Google.com

ये भी पढ़ें: जानिए क्या है QUAD और कितने देश हैं इसमें शामिल, 24 सितंबर को बैठक में शामिल होंगे PM मोदी

ऐसे तय होती है अध्यक्षता

जी-20 (G20) सम्मेलन की अध्यक्षता इस बार इटली कर रहा है, हर बार इसकी अध्यक्षता अलग देश के हाथ में होती है, इसके लिए बकायदा प्रक्रिया निर्धारित है. अध्यक्ष पद के लिए 19 राष्ट्रों को 5 समूह में बांटा गया है, भारत समूह 2 के अंतर्गत आता है, जिसमें रूस, दक्षिण अफ्रीका और तुर्की शामिल हैं. किसी भी ग्रुप में 4 से ज्यादा देश नहीं होते. हर साल जी-20 का कोई ग्रुप किसी दूसरे ग्रुप से एक अन्य देश का चयन करता है. इस बार जी-20 (G-20) की बैठक का विषय वैश्विक अर्थव्यवस्था और वैश्विक स्वास्थ्य (Global Economy And Global Health) है जबकि दूसरे सेशन के लिए इसका थीम जलवायु परिवर्तन और पर्यावरण (Climate Change And Environment) के साथ-साथ सतत विकास है. इस बार सम्मेलन में इन मुद्दों पर चर्चा होगी.

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

IOS: http://apple.co/2ZeQjTt

No comments

leave a comment