Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Thursday / December 1.
Homeहेल्थजानिए, पैनिक अटैक (Panic Attack) के लक्षणों के बारे में!

जानिए, पैनिक अटैक (Panic Attack) के लक्षणों के बारे में!

Panic Attack
Share Now

आज के नौजवानों में स्ट्रेस (Stress) और एंग्जाइटी (Anxiety) से जुड़ी अत्यधिक समस्याएं होती हैं। पिछले कुछ वर्षों में Panic Attack शब्द बहोत ही प्रचलित हो रहा है। हर एक व्यक्ति को छोड़कर दूसरा नौजवान पैनिक अटैक से पीड़ित है। वैसे देखा जाए तो यह समस्या अत्यंत गंभीर है भी और नहीं भी। मतलब इसका उपचार डॉक्टर्स तो कर देंगें लेकिन हमें खुद भी इस तकलीफ का सामना करके स्वयं इलाज जरूरी है। 

आइए जानते हैं, Panic Attack क्या है और क्यूँ होता है? और इसके लक्षण क्या-क्या होते हैं? इससे बचने के लिए किन बातों का रखे ध्यान? 

पैनिक अटैक क्या है, क्यूँ होता है? (Panic Attack)

देश विदेश के डाक्टर्स द्वारा किए गए अनेकों रिसर्च से यह निष्कर्ष सामने आया है कि, पैनिक अटैक की कोई खास वजह नहीं होती है। लेकिन इसका सीधा संबंध एंग्जाइटी (Anxiety) से है। जिन लोगों को अत्यधिक क्रोध आता है, ऐसे व्यक्तियों को अपने गुस्से पर नियंत्रण करना अत्यधिक जरूरी है। क्यूंकी हम स्वयं ही इस समस्या को अत्यंत गंभीर बना लेते हैं। बिना मतलब कि बातों पर स्ट्रेस लेना, बिन जरूरी बातों को Importance देना। एक बात को बार बार खींचते जाना। लेकिन जो लोग पहले से डायबीटीज, ब्लड प्रेशर, हार्ट के मरीज और अस्थमा जैसी बीमारियां हैं उनके लिए Panic Attack ‘वॉर्निंग सिग्नल’ हो सकता है।

यहाँ पढ़ें: योगासन सीरीज: हर्निया से पीड़ितों के लिए यह आसन है, लाभदायी!

कैसे करें पैनिक अटैक के लक्षणों की पहचान?

जब भी अचानक से हमें घुटन महसूस होना शुरू हो जाती है। और पूरा शरीर वाइब्रेट (कम्पन्न) करने लगता है, अचानक से सांस फूलने लगती है, घुटन सी महसूस होने लगती है। तो समझ जाइए कि यह पैनिक अटैक है। मन में एक अनजाना सा डर लगना भी इसका ही एक लक्षण है। जब भी ऐसी कोई परिस्थिति उत्पन्न होती है तो समझ जाइए कि आप खुद को पैनिक अटैक का शिकार बना रहे हैं।  

इसके अलावा पैनिक अटैक आने से पहले के संकेत कुछ इस प्रकार हैं:- 

  • अचानक से सीने में दर्द और बेचैनी जैसा महसूस होना। 
  • हार्ट बीट तेज होना, और पेट में दर्द होना। 
  • सिर में दर्द होना और वोमीटिंग होना। 
  • ठंड में भी गर्मी का महसूस होना। 
  • छोटी छोटी बातों पर तनाव होना।
  • गला सूखना, सांस न आना, चक्कर आना जैसी समस्या।
  • बेहोशी महसूस करना, शून्यता की स्थिति में आ जाना। 
  • बार-बार टॉयलेट जाने की ज़रूरत महसूस होना भी इसके लक्षण हैं.
  • शरीर का बेलेन्स खो देना और बेहोशी जैसी परिस्थिति होना। 
  • शरीर में ऐसे ही असामान्य लक्षण दिखाई देने लगे तो इसे पैनिक अटैक कहा जा सकता है। 
  • इन परिस्थिती भूलकर भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए।
  • ऐसे संकेत दिखने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

यहाँ पढ़ें: अंगुलियां चटकाने से हो सकते हैं, आपको ये गंभीर रोग!

Panic Attack

Image Credit: Calm clinic

पैनिक अटैक से बचने के लिए किन बातों का रखें ध्यान? 

सबसे पहली और जरूरी बात यह है कि, यदि ऐसे कोई लक्षण दिखाई देते हैं तो अपने मित्रों और परिवार के सदस्यों से बोलने में हिचकिचाहट महसूस ना करें। या फिर डॉक्टर्स से तुरंत Consult करें। कुछ जरूरी बातें हैं, जिन्हें आपको ध्यान रखना अत्यधिक आवश्यक है। जिससे आप खुद भी सेल्फ केयर कर सकते हैं। 

  • सबसे पहले गहरी, धीमी सांसें लेने का प्रयास करें।
  • जिससे आपके हार्ट बीट की गति एकदम धीमी हो जाएगी। 
  • और घबराहट के दौरान यह प्रक्रिया आपके लिए सहायक है। 
  • पैनिक अटैक से जुड़े नकारात्मक विचारों को ध्यान में ना लाएं। 
  • सकारात्मक विचारों के बारे में सोचें जिससे मन को शांति मिलेगी। 
  • आँख बंद करके अपने मन में सकारात्मक विचारों को लाने का प्रयास करें। 
  • लंबी गहरी सांस ले, अपने मनपसंद लोगों से बात करने का प्रयास करें। 
  • अपनी समस्या को समझने का प्रयास करें, और खुद से ही इस समस्या से निपटने की कोशिश करें। 
  • अत्यधिक तकलीफ होने पर तुरंत चिकित्सकीय इलाज कराएं। 

देखें यह वीडियो: ‘Reason Behind Panic Attack’

ध्यान दें: पैनिक अटैक (Panic Attack) एक सामान्य समस्या है इसे खुद पर हावि ना होने दें, और यदि किसी भी तरह की बड़ी शारीरिक तकलीफ होती है तो मनोविशेषज्ञ या डॉक्टर की सलाह अवश्य लें। 

देश दुनिया की खबरों को देखते रहें, पढ़ते रहें.. और OTT INDIA App डाउनलोड अवश्य करें..  स्वस्थ रहें.. 

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App
Android: http://bit.ly/3ajxBk4
iOS: http://apple.co/2ZeQjT

No comments

leave a comment