Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Sunday / October 17.
Homeन्यूजजानिए क्या है रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट, जिसमें आठवीं बार रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने बदलाव नहीं किया है

जानिए क्या है रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट, जिसमें आठवीं बार रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने बदलाव नहीं किया है

Repo Rate RBI Governor
Share Now

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने रेपो रेट (Repo Rate) और रिवर्स रेपो रेट (Reverse Repo Rate) में कोई बदलाव नहीं किया है. इस बात का असर आपके ऊपर क्या पड़ने वाला है, आखिर ये रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट होता क्या है, ये समझने की कोशिश करते हैं.

रेपो रेट क्या होता है

रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट में इतना अंतर है दोनों एक दूसरे के बिल्कुल विपरीत हैं. दरअसल जिस बैंक से आप लोन लेन जाते हैं, वह भी जरूरत पड़ने पर आरबीआई से लोन लेता है, अब उस लोन पर लगने वाले ब्याज की दर क्या होगी, वह आरबीआई निर्धारित करता है. इसी दर को हम रेपो रेट कहते हैं. मतलब ये कि रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं होगा तो कुछ भी सस्ता नहीं होगा बल्कि पहले की तरह ही चलेगा. जबकि रेपो रेट अगर कम हो जाएगा कि बैंक से मिलने वाले कर्ज और तरह-तरह के लोन सस्ते हो जाएंगे.

रिवर्स रेपो रेट क्या है

अब समझते हैं कि रिवर्स रेपो रेट क्या है. यह बिल्कुल रेपो रेट का उल्टा है. जब बैंकों के पास पैसा ज्यादा होता है तो वह आरबीआई में जमा कर देते हैं. तब आरबीआई उस जमा धन पर ब्याज देता है, उस ब्याज की जो दर होती है उसे ही रिवर्स रेपो रेट कहते हैं. मतलब रेपो रेट में बैंक आरबीआई को भुगतान करता है और रिवर्स रेपो रेट में आरबीआई बैंक को. जब भी रिवर्स रेपो रेट बढ़ता है तो बैंकों को ज्यादा ब्याज मिलने लगता है.

लगातार 8वीं बार नहीं हुआ बदलाव

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के गर्वनर (RBI Governor) शक्तिकांत दास ने मौद्रिक नीति समिति (Monetary Policy Committee) की बैठक के बाद बताया कि लगातार 8वीं बार रेपो दर (Repo Rate) में बदलाव नहीं किया गया है, उसे 4 प्रतिशत रखा गया है. जबकि रिवर्स रेपो रेट को भी पहले की तरह 3.5 फीसदी रखा गया है.

ये भी पढ़ें: RBI Monetary Policy: जानिए, भारतीय रिजर्व बैंक के क्या हैं प्रमुख ऐलान!

IMPS के जरिए अब ट्रांसफर कर सकते हैं 5 लाख रुपये

इसके अलावा बैठक में कई और फैसले लिए गए हैं, जिनमें सबसे बड़ी बात ये है कि अब आप आईएमपीएस (IMPS) के जरिए 2 लाख की बजाय एक दिन में 5 लाख रुपये का भुगतान कर सकते हैं. यानि तत्काल भुगतान सेवा लेनदेन की दैनिक सीमा आरबीआई ने बढ़ा दी है. गर्वनर ने ये भी कहा कि डिजिटल भुगतान की पहुंच का विस्तार करेंगे, मतलब इसे बढ़ावा दिया जाएगा.

No comments

leave a comment