Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Thursday / December 1.
Homeहेल्थयोगासन सीरीज: ध्यान केंद्रित करने में सहायक है, शीर्षासन!

योगासन सीरीज: ध्यान केंद्रित करने में सहायक है, शीर्षासन!

Share Now

आज के समय में डिजिटल दुनिया में स्वाभाविक है कि हमारा ध्यान एक ओर केंद्रित नहीं रहता है। और ध्यान को एक काम में या किसी एक चीज पर केंद्रित करना अत्यधिक आवश्यक है। क्यूंकी ऐसा करने से हमारे काम में तीव्रता आती है और पूरे दिन की व्यस्तता में हम खुद के लिए थोड़ा समय निकाल पाते हैं। इसलिए ध्यान को केंद्रित करने और मन की शांति के लिए कई ऐसे आसन हैं, जिनका प्रतिदिन अभ्यास करना आवश्यक है। आइए जानते हैं ऐसे ही एक आसन के बारे में। जिसका नाम है- शीर्षासन. 

योगासन सीरीज (Yogasana Series) में आज का आसन है- शीर्षासन (Sirsasana)। यह आसन ध्यान को केंद्रित करने में मदद करता है। और एकाग्रता बढ़ती है। आइए जानते हैं शीर्षासन कैसे किया जाता है? और यह आसन हमारे शरीर के लिए कितना लाभकारी है?  

शीर्षासन क्या है? (What is Shirshasana/ Headstand Pose)

शीर्षासन एक संस्कृत शब्द है, शीर्ष का अर्थ होता है- सिर और आसन मतलब मुद्रा। इस आसन को करते वक्त पूरा शरीर का वजन शिर पर संतुलित रहता है इसलिए इसे शीर्षासन कहा जाता है। और इंग्लिश में इसे हेडस्टैंड पोज/ Headstand Pose के नाम से भी जाना जाता है। शीर्षासन को कपालासन, और वृक्षासन भी कहा जाता है।

Steps of Headstand Image Credit: Yogasana

आइए जानते हैं इस आसन को कैसे करना चाहिए? आसन करने की विधि क्या है, इससे क्या क्या शारीरिक लाभ होते हैं? 

शीर्षासन करने की विधि: (How to do Shirshasana)

शीर्षासन का अभ्यास खुले और शुद्ध वातावरण में करना अनिवार्य है। यह आसन सिर के बाल उलटे होकर किया जाता है। Headstand Pose का प्रयास करने की प्रक्रियाँ इस प्रकार हैं। 

शीर्षासन करने की विधि Image Credit: Arogyachintan

  • सर्वप्रथम वज्रासन की स्थिति में घुटनों के बल योगा मेट पर बैठ जाएं। 
  • फिर अपनी अंगुलियों को इंटरलॉक करके फर्श पर रखें। 
  • हाँथ को फर्श पर रखते हुए शरीर को फर्श की ओर ले जाएं।
  • अपने सिर हथलियों  के बीच रखें।
  • अब घुटने और पैरों को एक दम सीधा करके ऊपर की ओर ले जाएं।
  • एक एक पैर को धीरे धीरे उपर उठाने का प्रयास करें।
  • पैर ऊपर ले जाते वक्त शरीर का संतुलन बनाए रखें।
  • पूरे शरीर का वजन पंजों, शिर और भुजाओं पर दें।
  • और साँस की प्रक्रिया निरंतर रखें।
  • इस आसन की अवस्था में कम से कम 15 से 20 सेकेंड तक रहें ।
  • अब पुन:वज्रासन की स्थति में लौट आयें। 
  • इस तरह इस आसन का अभ्यास दिन में 2-3 बार ही करें। 
  • और हो सके तो सप्ताह में 4 से 5 बार ही आसन का अभ्यास करें। 

यहाँ पढ़ें: योगासन सीरीज: शरीर की हड्डियों को मजबूत रखें, प्रतिदिन नटराजासन करें!

शीर्षासन करने से कौन कौन से शारीरिक लाभ होते हैं? (Health Benefits of Shirshasana)

Image Credit:अच्छी सो

शीर्षासन का निरंतर प्रयास करने से ध्यान केंद्रित रहता है। मन एकाग्र रहता है। इस तरह शीर्षासन के कई शारीरिक लाभ होते हैं। 

  • यह आसन निम्न रक्तचाप वालों के लिए अत्यधिक सहायक है। 
  • शीर्षासन का अभ्यास करने से रक्त संचार संतुलित और नियमित रहता है। 
  • यह आसन को करने से बालों को सफेद होने से से बचाया जाता है। 
  • शीर्षासन का निरंतर अभ्यास करने से मस्तिष्क की गर्मी कम होती है। 
  • मस्तिष्क तेज और एकाग्र रहता है। जिससे ध्यान केंद्रित रहता है। 
  • हाथ-पांव की झनझनी या सूनापन यह आसन से दूर होता है। 
  • क्यूंकि पूरे शरीर में रक्तसंचार तेजी से होता है। 
  • यदि व्यक्ति को बवासीर की समस्या है तो वह भी दूर होती है। 
  • इस आसन से मधुमेह को भी दूर किया जा सकता है। 
  • कमर दर्द से संबंधित समस्याओं को दूर करने में भी मदद करता है।
  •  चेहरे की कोशिकाओं तक को ऑक्सीजन पहुंचता है। 
  • त्वचा एकदम चमकीली और प्रभावित दिखती है। 
  • यह आसन पाचन तंत्र को बेहतर बनाता है।
  • यदि नियमित रूप से आसन का अभ्यास किया जाए तो नींदअच्छी आती है। 

ऐसे लोग शीर्षासन करते समय सावधानियां जरूर बरतें या फिर ना आसन का प्रयास ना करें: 

शीर्षासन करते समय कई सावधानियां बरतनी आवश्यक है। जो कि इस प्रकार हैं, 

Image Credit: Wellnesswork

  • आंख, कान एवं हृदय की बीमारियाँ जिन लोगों को है ऐसे लोगों के लिए आसन वर्जित है।
  • उच्च रक्तचाप के लोग शीर्षासन करने से बचें। 
  • यह आसन का प्रयास करते समय ध्यान रखें कि सतह एकदम सॉफ्ट हो, ज्यादा हार्ड सरफेस ना हो। 
  • यह आसन करते वक्त एकदम ढीले वस्त्र ही पहनें। 
  • इस आसन का प्रयास किसी भी कसरत करने के तुरंत बाद ना करें। 

ध्यान दें: यदि योगाभ्यास के दौरान किसी भी तरह की शारीरिक तकलीफ होती है तो योग विशेषज्ञ या डॉक्टर की सलाह अवश्य लें। 

जुड़े रहें, योग की इस “योगासन सीरीज” में तब तक के लिए पढ़ते रहें देश और दुनिया की खबरें और बने रहें हमारे साथ OTT INDIA पर.. 

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App
Android: http://bit.ly/3ajxBk4
iOS: http://apple.co/2ZeQjT

No comments

leave a comment