Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Tuesday / October 4.
Homeभक्तिकहानी पृथ्वी के पहले राजा की जिन्होंने इसे उपजाऊ और हमारे-आपके रहने लायक बनाया

कहानी पृथ्वी के पहले राजा की जिन्होंने इसे उपजाऊ और हमारे-आपके रहने लायक बनाया

king of the earth
Share Now

अगर कोई आपसे पूछे कि पृथ्वी का पहला राजा कौन था,  इस पृथ्वी को किसने रहने लायक बनाया, क्या ये पृथ्वी पहले से ही समतल और सपाट थी जैसा आज मैदानी इलाकों में दिखती है, क्या ये पृथ्वी आज की तरह ही उपजाऊ थी, शायद इन सवालों के जवाब आप आज के किताबों में नहीं तलाश पाएं लेकिन शास्त्रों में इस सवाल का जवाब जरूर मिल जाएगा.

कौन हैं पृथ्वी के पहले राजा 

पृथ्वी के पहले राजा पृथु हुए, जिन्होंने इस धरती को हमारे और आपके रहने लायक बनाया. एक तरह से कहिए तो समतल-सपाट और अन्न पैदा करने वाली ऐसी धरती पहले नहीं थी. आदिमानव काल में तो खेती भी नहीं होती थी. धीरे-धीरे वक्त बीता और चीजे बदलने लगीं. राजा पृथु के काल से पहले इस धरती पर लोग रहते तो थे लेकिन जहां-तहां बस जाते थे. ग्राम यानि गांव और पुर यानि नगर जैसी चीजें उस वक्त नहीं थीं.

earth

Image Courtesy: Google.om

भगवान विष्णु के अवतार हैं पृथु

ऐसे में इन चीजों को व्यवस्थित करने का श्रेय राजा पृथु को जाता है. जो भगवान विष्णु के अवतार भी माने जाते हैं. भगवान विष्णु के अब तक हुए 23 अवतारों में से एक आदिराज पृथु भी हैं. भगवान विष्णु का 24वां अवतार कल्कि अभी हुआ नहीं है, बल्कि 3 लाख 96 हजार वर्ष वाले कलियुग के आखिर में भगवान कल्कि रूप में अवतार लेंगे. भगवान विष्णु के राजा पृथु के रूप में अवतार लेने के कहानी भी काफी दिलचस्प है.

राजा वेन को ऋषियों ने मार डाला  

प्राचीन काल में मनु के वंश में वेन के रूप में एक दुष्ट राजा का जन्म हुआ जो भगवान को बिल्कुल भी नहीं मानता था. कहते हैं कि राजा अंग ने एक बार पुत्रेष्टि यज्ञ की कामना से यज्ञ करवाया तो अग्निदेव खीर लेकर प्रकट हुए और उसे राजा को दिया, जिसे राजा ने रानी को दिया. चूंकि रानी एक अधर्मी वंश की थी, इसलिए जो पुत्र पैदा हुआ वह वेन नाम का अधर्मी हुआ. उसने कहा कि कोई भगवान की पूजा न करें, बल्कि लोग मेरी पूजा करें, ऐसा आदेश सुनने के बाद ऋषि-मुनि राजा को समझाने गए तो वह नहीं माना. आखिरकार ऋषियों ने हुंकार भरकर एक कुश फेंका, जिससे राजा वेन मर गया. इसके अलावा ये भी कहते हैं उसने यज्ञ में पशु बलि बंद नहीं किया इसलिए ऋषियों ने मार डाला.

Facts About The Earth

Image Courtesy: AAJTAK.IN

ये भी पढ़ें: क्या ये जानते हैं कि हम और आप जहां रहते हैं, उस पृथ्वी के आंतरिक रूप से कितने हिस्से हैं…

ऐसे हुआ राजा पृथु का जन्म

राजा वेन के मरने के बाद जब ऋषियों ने उसके हाथ को मथा तो एक दिव्य बालक और बालिका का जन्म हुआ. जिसका नाम पृथु और अर्ची पड़ा. यह भगवान विष्णु और लक्ष्मी के अवतार माने गए. पृथु के सदगुणों को देखते हुए ऋषियों ने पृथु को बाद में राजा बना दिया. राजा पृथु ने अपने काल में प्रजा को सुखी रखा और धर्म-कर्म के कार्य किए. हमेशा प्रजा की सेवा की और भगवान की पूजा अर्चना की. उन्होंने समस्त पृथ्वी पर राज किया और पृथ्वी को रहने लायक बनाया. इसिलिए उन्हें पृथ्वी का पहला राजा माना जाता है. उनके नाम पर ही धरती का नाम पृथ्वी पड़ा. 

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

iOS: http://apple.co/2ZeQjTt   

No comments

leave a comment