Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Tuesday / October 4.
Homeन्यूजदुनिया का सबसे ऊँचा ‘आर्क ब्रिज’

दुनिया का सबसे ऊँचा ‘आर्क ब्रिज’

World's Highest Railway line
Share Now

देश का मुकुट कहे जाने वाले कश्मीर में भारतीय इंजीनियर्स ने कीर्तिमान कायम किया है. कश्मीर में दुनिया का सबसे ऊंचा रेलवे ‘आर्क ब्रिज’ बनकर तैयार होने वाला है. चिनाब नदी पर विश्व के सबसे ऊंचे रेलवे पुल का निर्माण करने के साथ ही यह भारत का सबसे बड़ा रेलवे प्रोजेक्ट बन गया है.

100 किमी. की रफ्तार से दौड़ेंगी ट्रेन

विश्व के सबसे ऊंचे रेल ब्रिज के दोनों सिरों की आर्क 5 अप्रैल को जोड़ दी गई है.  इस आइकॉनिक रेलवे आर्क ब्रिज की लंबाई 1315 मीटर है. नदी के तल से इसकी ऊंचाई 359 मीटर है और ब्रिज के एक तरफ लगे पिलर की ऊंचाई 131 मीटर है. चिनाब नदी पर बना ये रेलवे ब्रिज ऑनलाइन मॉनिटरिंग और वॉर्निंग सिस्टम से लैस होगा. इसमें रोप-वे लिफ्ट की सुविधा भी होगी और सेंसर लगे होंगे, ताकि किसी भी तरह की खराबी आने पर तुरंत पता लगाया जा सके. अर्ध चंद्राकार वाला यह रेलवे ब्रिज हर लिहाज से ग्लोबल इंजीनियरिंग के लिए मिसाल होगा. इस पुल पर 100 किमी. की रफ्तार से ट्रेन दौड़ सकेंगी.

Chenab Bridge construction

चिनाब नदी पर बन रहा आइकॉनिक रेलवे आर्क ब्रिज

देखिए ये वीडियो: चिनाब आर्क ब्रिज बना इतिहास!

-10 डिग्री से 40 डिग्री टेंपरेचर आसानी से सह लेगा पुल

उधमपुर-श्रीनगर-बारामूला रेल लिंक योजना के तहत चिनाब ब्रिज का निर्माण किया जा रहा है. ये रेलवे पुल कश्मीर को देश के बाकी राज्यों से जोड़ेगा. पुल के इँफ्रास्ट्रक्चर के लिए सबसे मॉर्डन टेस्ला सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया गया है. इलाका बहुत ज्यादा ठंड वाला है और आग जैसे हालात में तापमान ज्यादा भी हो सकता है. लेकिन घबराने की बात नहीं है, क्योंकि इंजीनियर्स ने पुल को ऐसे बनाया है कि ये -10 डिग्री से 40 डिग्री सेल्सियस टेमपरेचर को आसानी से सह जाएगा. यह पुल 266 किमी. प्रति घंटे हवा की गति का सामना करने के लिए डिजाइन किया गया है. डीआरडीओ की सलाह से देश में पहली बार ब्लास्ट लोड के लिए किसी पुल को डिजाइन किया गया है. ये पुल एलओसी (LOC) से सिर्फ 60 किमी की दूरी पर स्थित है. वैष्णों देवी धाम कटरा और बनिहाल के बीच की 111 किलोमीटर दूरी को ये पुल जोड़ने का बेहद अहम काम करेगा.

LOC से सिर्फ 60 किमी की दूरी पर स्थित आर्क ब्रिज

भूकंप के तेज झटके भी नहीं हिला सकेंगे

उत्तर रेलवे का 28 हजार करोड़ रुपये की लागत वाला ये प्रोजेक्ट कश्मीर घाटी को देश के बाकी हिस्सों से जोड़ने का काम कर रहा है. जिसमें 272 किलोमीटर लंबा रेल लिंक प्रोजेक्ट पूरा किया जाएगा. आर्क पुल का बनना पूरे प्रोजेक्ट के लिए बड़ी सक्सेस है. इंजीनियर्स के मुताबिक चिनाब पर बने इस ब्रिज का 120 साल तक कुछ नहीं बिगड़ेगा, क्योंकि इसे स्टील और आधुनिक टेक्नोलॉजी के मेल से बनाया गया है. 200 किलो. प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली हवा भी पुल को हिला नहीं पाएगी. पुल को बनाया ही इस तरह गया है कि भूकंप के तेज झटके भी इसका कुछ नहीं बिगाड़ पाएंगे.

120 years life span of Chenab Bridge

120 साल तक खड़े रहने की गारंटी

दिसंबर 2021 में दर्ज होगा इतिहास

आर्क ब्रिज भारतीय रेलवे के बड़े प्रोजेक्ट्स में स्वर्णिम अक्षरों में दर्ज हो गया है. 272 किलोमीटर लंबे रेल लिंक प्रोजेक्ट में कुल 38 टनल हैं. इसमें सबसे लंबी टनल की लंबाई 12.75 किलोमीटर है. आर्क ब्रिज को बनाने के लिए खास तरह के केबल कार बनाए गए हैं, जिनकी क्षमता 20/37 मीट्रिक टन है. चिनाब पुल का 550 मीटर में से 516 मीटर काम पूरा हो चुका है और बचा 34 मीटर का काम जल्द ही पूरा कर लिया जाएगा. बता दें, पुल का निर्माण जुलाई 2017 में शुरू हुआ था. इसे 2019 में पूरा करने का लक्ष्य था लेकिन 2018 में कॉन्ट्रैक्ट संबंधी कुछ दिक्कतों के कारण काम रोक दिया गया. अब दिसंबर 2021 में पुल का काम पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है.

ऐसी ही अहम जानकारी के लिए डाउनलोड करें:-

Android : http://bit.ly/3ajxBk4

iOS : http://apple.co/2ZeQjTt

No comments

leave a comment